Madhya Pradesh News: कोविड-19 के इलाज में इस्तेमाल होने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शनों की कालाबाजारी के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (क्राइम ब्रांच) गुरुप्रसाद पाराशर ने बताया कि कनाडिया रोड पर जाल बिछाकर पकड़े गए आरोपियों की पहचान अभिषेक कैथवास (21), गौरव पाटीदार (21) और रवि वैष्णव (24) के रूप में हुई है. उन्होंने बताया कि तलाशी पर कैथवास और पाटीदार के कब्जे से एक-एक रेमडेसिविर इंजेक्शन पाया गया, लेकिन पूछताछ में वे इस बारे में पुलिस को संतोषजनक जवाब नहीं दे सके कि उन्हें ये इंजेक्शन कैसे मिले. Also Read - नकली रेमडेसिविर बनाकर कई राज्यों में करते थे सप्लाई, 2 करोड़ रुपए बरामद, 6 अरेस्ट

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने कहा, ‘आरोपियों ने रेमडेसिविर इंजेक्शन अवैध रूप से हासिल किए थे और वे इन्हें जरूरतमंद मरीजों के परिजनों को ऊंचे दामों पर बेचने की फिराक में थे.’ पाराशर ने बताया कि आरोपियों का एक स्कूटर और एक मोटरसाइकिल पुलिस ने जब्त कर ली है और उनके खिलाफ भारतीय दंड विधान के संबद्ध प्रावधानों के साथ ही महामारी रोग अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कर विस्तृत जांच जारी है. Also Read - राष्‍ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने मिल्खा सिंह के निधन पर जताया गहरा शोक

बता दें कि इंदौर, मध्य प्रदेश में कोविड-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित जिला है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक करीब 35 लाख की आबादी वाले जिले में 24 मार्च 2020 से लेकर अब तक महामारी के कुल 1,39,185 मरीज मिले हैं. इनमें से 1,269 लोगों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है. Also Read - कोरोना के खिलाफ 1 लाख covid 19 वारियर्स होंगे तैयार, पीएम मोदी ने लॉन्च किया क्रैश कोर्स

(इनपुट: भाषा)