दमोह: मध्यप्रदेश के दमोह जिले के बटियागढ़ थानांतर्गत ग्राम पाडाझिर में 45 वर्षीय एक महिला ने शनिवार को अपने 16वें बच्चे को जन्म दिया, लेकिन उसके कुछ ही घंटों बाद इस महिला एवं उसके नवजात बेटे ने दम तोड़ दिया. आशा कार्यकर्ता कल्लो बाई विश्वकर्मा ने रविवार को बताया कि पाड़ाझिर निवासी सुखरानी अहिरवार ने शनिवार को अपने 16वें बच्चे को जन्म दिया. प्रसव के दौरान गंभीर हालत के चलते परिजन उसे और उसके नवजात बच्चे को तत्काल हटा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले गये, लेकिन रास्ते में ही मां-बेटा दोनों की मौत हो गई. Also Read - शिवराज सिंह चौहान ने कहा- कमलनाथ मध्य प्रदेश के लोगों को प्यार करना सीखें

उन्होंने कहा कि महिला सोलहवीं बार मां बनी थी. महिला की पहले की 15 संतानों में से मात्र 4 लड़के और 4 लड़कियां जीवित हैं, जबकि 7 बच्चों की पहले ही मौत हो चुकी है. पाड़ाझिर गांव दमोह जिला मुख्यालय से करीब 50 किलोमीटर दूर है. इसी बीच, दमोह जिले की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. संगीता त्रिवेदी ने कहा कि शासन की इतनी योजनाओं के बाद भी अभी तक इस महिला का परिवार नियोजन ना होना जांच का विषय है. इसकी जांच कराई जाएगी और जो भी दोषी पाया जाएगा, उस पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी. Also Read - शिवराज सरकार के मंत्री को महिला आयोग का नोटिस, कांग्रेस प्रत्याशी की पत्नी को कहे थे अपशब्द

बता दें भारत सरकार द्वारा ‘हम 2 हमारे 2’ नाम से एक जागरूकता कैंपेन चलाई जाती है. इसमें लोगों में जागरूकता फैलाई जाती है कि दो बच्चों से अधिक बच्चों को जन्म न दिया जाए. इससे मातृत्व/मां और शिशु दोनों पर ही खतरा होता है. इस कारण सरकार इस कैंपेन पर हर साल करोड़ों खर्च करती है. Also Read - मध्यप्रदेश की मंत्री को कहा ‘आइटम’, राहुल गांधी बोले- मैं कमलनाथ जी की भाषा का समर्थन नहीं करता

(इनपुट-भाषा)