नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर शनिवार को कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया. इस घोषणा पत्र में कहा गया है कि अगर पार्टी सत्ता में आती है तो सरकारी इमारतों और परिसरों में आरएसएस की शाखा लगाने की इजाजत नहीं दी जाएगी. साथ ही सरकारी कर्मचारियों के शाखा में भाग लेने की अनुमति देने के आदेश को भी रद्द कर दिया जाएगा. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अक्सर आरएसएस पर निशाना साधते रहे हैं. वे संघ पर देश को बांटने और नफरत की राजनीति करने का आरोप लगाते रहे हैं. आरएसएस के प्रति राहुल की सोच कांग्रेस के घोषणा पत्र में दिखाई दे रही है.

हालांकि कांग्रेस ने सॉफ्ट हिन्दुत्व के सहारे वोटरों को साधने की कोशिश की है. भगवान राम, नर्मदा, गौवंश और गौमूत्र का उल्लेख करते हुए मध्य प्रदेश कांग्रेस समिति ने विधानसभा चुनाव के लिए शनिवार को अपना जो घोषणापत्र जारी किया है उसमें पार्टी का ‘नरम हिन्दुत्व’ वाला चेहरा पेश करने का प्रयास किया गया है. प्रदेश में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के मतदान के मद्देनजर विपक्षी दल कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र (वचन पत्र) में सत्ता में आने पर चित्रकूट से शुरू होने वाले राम पथ गमन (भगवान राम द्वारा वनवास के दौरान तय किया गया रास्ता) का प्रदेश की सीमा तक निर्माण करने का वादा किया है.

इसके साथ ही प्रदेश की जीवनरेखा पवित्र नर्मदा नदी के संरक्षण के लिए मां नर्मदा न्यास अधिनियम लाकर नर्मदा नदी के परिक्रमा पथ पर 1100 करोड़ रुपयों की लागत से विश्रामस्थलों के निर्माण करने की भी घोषणा की गई है. कांग्रेस ने प्रदेश में ग्राम पंचायत स्तर पर गोशाला खोलने और चिन्हित इलाकों में गो अभ्यारण्य बनाने की घोषणा की है. इसके अलावा गोशाला के गोबर, खाद, कण्डा, गौमूत्र एवं अन्य वस्तुओं का व्यावसायिक स्तर पर उत्पादन करने और दुर्घटना में घायल गायों का इलाज और मृत गायों के अंतिम संस्कार की व्यवस्था करने की बात भी कही गई है.

और क्या है कांग्रेस के घोषणा पत्र में
कांग्रेस के घोषणा पत्र में किसानों की कर्जमाफी का वादा किया गया है. इसके साथ ही किसानों का बिजली बिल आधा सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि 300 से बढ़ाकर 1000 करने और महिलाओं के स्व सहायता समूह के कर्ज माफ करने का वादा किया गया है. लड़कियों के विवाह के लिये 51000 रुपए का अनुदान देने की बात भी कही गई है. कमलनाथ ने विधान परिषद के गठन की भी बात कही. वहीं कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि हमारी सोच सकारात्मक, प्रगतिशील और एक नये सवेरे की सोच है. पहली बार घोषणापत्र नहीं वचनपत्र और संकल्प पत्र रखा जा रहा है. 10000 प्रतिमाह हर परिवार के एक बेरोजगार युवा को दिया जाएगा.