छिंदवाड़ा: देश के विभिन्न हिस्सों से आ रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं के बीच मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले से एक और घटना सामने आई है. यहां बदमाश को पकड़ने गए सहायक उपनिरीक्षक (असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर) देव चंद नागले की ग्रामीणों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नीरज सोनी ने बुधवार को बताया, “उमरेठ थाने के एएसआई नागले बदमाश जौहर सिंह (जिसके नाम वारंट था) को पकड़ने के लिए मंगलवार रात को जमुनिया जेठू गांव गए थे कि तभी उन पर कुल्हाड़ी, डंडे आदि से लोगों ने हमला बोल दिया जिससे उनकी मौत हो गई.”

मॉब लिंचिंग के खिलाफ कानून बनाने की प्रक्रिया शुरू, पीट-पीटकर हत्या को दंडात्मक अपराध बनाने की तैयारी

नीरज के मुताबिक, इस मामले में आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है और साथ ही पुलिस कार्रवाई जारी है. सूत्रों ने बताया है कि नागले के साथ एक पुलिसकर्मी और कोटवार (गांव का लेखा-जोखा रखने वाला) भी थे लेकिन तीनों निहत्थे थे. पुलिसकर्मी व कोटवार ने जैसे ही आठ से दस लोगों की भीड़ को हमला करते देखा वे दोनों भाग खड़े हुए. नागले अकेले बचे और उनकी बदमाशों और उसके साथियों ने हत्या कर दी.

मॉब लिंचिंग पर सरकार सख्त, जीओएम और कमेटी का गठन, 15 दिन में देगी रिपोर्ट

बता दें कि पिछले कुछ महीनों से देश में भीड़ द्वारा पीट-पीट कर मारे जाने की घटनाएं बढ़ी हैं. मई से जुलाई के बीच ही बच्चा चोरी, गौ तस्करी जैसी घटनाओं के चलते देश के अलग-अलग हिस्सों में 20 से ज्यादा लोग मॉब लिंचिंग की भेंट चढ़ चुके हैं.