Madhya Pradesh, ACCIDENT IN MP, Vidisha News Updates:  मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में विदिशा (Vidisha) जिले में गुरुवार रात को एक बड़ा ( Big Accident) हादसा हो गया. के गंजबासौदा (Ganjbasoda area in Vidisha) में रात को कुएं में फिसलकर गिरी एक बच्ची को बचाने के लिए इसकी मेड़ पर खड़े कई लोग अचानक मिट्टी धंसने से कुएं में गिर गए और मलबे में दब गए. इनमें से 19 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है और बचाव कार्य मध्यरात्रि के बाद भी जारी है. ताजा जानकारी के मुताबिक, 4 लोगों की मौत हो चुकी है. NDRF और SDRF की टीमें बचाव में लगीं हैं.Also Read - MP के मंत्री सारंग बोले- नेहरू के 1947 के लाल किले के भाषण से शुरू हुई अर्थव्यवस्था की बदहाली

वहीं, इस हादसे में कुएं में गिरने के बाद बचाये गए दो लोगों ने मीडिया से कहा कि कुएं में गिरी एक बच्ची को बचाते समय यह हादसा हुआ. उसे बचाने के लिए कुछ लोग इस कुएं में उतर गए, जबकि करीब 40-50 लोग उनकी सहायता करने एवं देखने के लिए कुएं की मेड़ और छत पर खड़े हो गए. उन्होंने कहा कि इसी बीच, कुएं की छत ढह गई, जिससे करीब 25-30 लोग कुएं में गिर गए. एक अधिकारी ने बताया कि इस हादसे में कई लोगों की मलबे के नीचे दबे होने की आशंका है. Also Read - MP में 'फ्री फायर' के चलते दूसरी सुसाइड: ऑनलाइन गेम में 40 हजार गंवाने पर 13 साल के छात्र ने फांसी लगाई

Also Read - MP: 150 साल पुरानी भिंड जेल की बैरक की दीवार ढही, 22 कैदी गंभीर रूप से घायल

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार रात करीब 11 बजे बचाव कार्य में लगा एक ट्रैक्टर भी इस कुएं में गिर गया, जिससे चार पुलिसकर्मियों सहित कुछ लोग भी इस कुएं में गिर गए. इनमें से तीन पुलिसकर्मियों एवं कुछ अन्य लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है. घटना की उच्चस्तरीय जांच कराने के निर्देश दिए गए हैं. हालांकि, अब तक यह पता नहीं चल पाया है कि कुल कितने लोग इस मलबे में दबे हैं. यह कुआं करीब 50 फुट गहरा है और इसमें करीब 20 फुट तक पानी बताया गया है.

मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग ने बृहस्पतिवार देर रात को घटनास्थल से न्‍यूज एजेंसी पीटीआई-भाषा को फोन पर बताया कि अब तक 19 लोगों को बचा लिया गया है. उन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भेज दिया गया है. उन्होंने कहा कि इस कुएं के पानी को मशीनों के जरिये बाहर निकाला जा रहा है. सारंग ने बताया कि अब तक कोई भी मृत नहीं पाया गया है. उन्होंने कहा कि बचाव अभियान जारी है जिसे पूरा होने में समय लगेगा.

वहीं, इस हादसे में कुएं में गिरने के बाद बचाये गए दो लोगों ने मीडिया से कहा कि कुएं में गिरी एक बच्ची को बचाते समय यह हादसा हुआ. उसे बचाने के लिए कुछ लोग इस कुएं में उतर गये, जबकि करीब 40-50 लोग उनकी सहायता करने एवं देखने के लिए कुएं की मेड़ और छत पर खड़े हो गये. उन्होंने कहा कि इसी बीच, कुएं की छत ढह गई, जिससे करीब 25-30 लोग कुएं में गिर गए.

बचाए गए दो लोगों ने कहा कि उन दोनों सहित करीब 12 लोगों को वहां मौजूद ग्रामीणों ने कुएं से रस्सियों की मदद से बाहर निकाला और बचा लिए. दोनों को मामूली चोट आई है. उन्होंने कहा कि कुएं की छत पर जो लोहे की रॉड लगी थी, वह सड़कर गल चुकी थी. इसलिए वह टूट गई और यह हादसा हुआ.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार रात करीब 11 बजे बचाव कार्य में लगा एक ट्रैक्टर भी इस कुएं में गिर गया, जिससे चार पुलिसकर्मियों सहित कुछ लोग भी इस कुएं में गिर गए. इनमें से तीन पुलिसकर्मियों एवं कुछ अन्य लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है.

इससे पहले, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों को तत्काल राहत एवं बचाव कार्य चलाने के निर्देश दिये. चौहान ने घटनास्थल पर मौजूद कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक से बात कर घटना के संबंध में जानकारी ली और बचाव अभियान को तीव्र गति से चलाने के निर्देश दिए.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राहत एवं बचाव कार्य के लिये भोपाल से राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीम एवं आवश्यक उपकरण पहुँचाए जा रहे हैं.

मुख्यमंत्री घटनास्थल पर चल रहे राहत एवं बचाव कार्यों की स्वयं निगरानी कर रहे हैं. चौहान ने घटना की उच्च स्तरीय जांच और पीड़ितों को हर संभव चिकित्सीय सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए. इसी बीच, मौके पर पहुंचे विदिशा जिले के पुलिस अधीक्षक विनायक वर्मा ने फोन पर ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ”मैं अभी यही कह सकता हूं कि बचाव अभियान चल रहा है.” उन्होंने इससे ज्यादा बात नहीं की.