शिवपुरी: मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए बनाए जा रहे माहौल के बीच सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता अफसरशाही के रवैए से नाराज हैं और जनता का काम न करा पाने के कारण उनके बीच जाने का साहस नहीं जुटा पा रहे हैं. यह बात यहां शुक्रवार को केंद्रीय पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की मौजूदगी में हुई समन्वय बैठक में सामने आई. भाजपा के कई वरिष्ठ पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय मंत्री के सामने अपनी भड़ास जमकर निकाली. Also Read - शिवराज सिंह चौहान ने ममता बनर्जी को लिखा खत, इंदौर में फंसे बंगाल के मजदूरों को लेकर की ये अपील

Also Read - मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: बसपा को 'किंग मेकर' की भूमिका निभाने की उम्मीद

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष रह चुके नरेंद्र सिंह तोमर यहां शुक्रवार को समन्वय समिति की बैठक लेने पहुंचे. उनके सामने कई नाराज पार्टी नेता व कार्यकर्ताओं ने अपनी सुनवाई न होने व जिले में अफसरशाही हावी होने की बात कही. कई नेताओं ने कहा, “आज भाजपा कार्यकर्ता हताश हैं और उनके ही काम नहीं हो रहे तो वह जनता के सामने किस मुंह से जाएं?” Also Read - मध्य प्रदेश: कई बड़े कांग्रेसियों के परिवार को टिकट, भाई-बेटे-बहू को मैदान में उतारे दिग्गज

मंदसौर रेप: पीड़ित बच्ची के माता-पिता से मिलने पहुंचे सांसद, बीजेपी विधायक ने दिया शर्मनाक बयान

बैठक में मीसाबंदी हरिहर शर्मा ने कहा, “इस बात का चिंतन होना चाहिए कि हम पिछले कुछ सालों से पिछोर विधानसभा क्षेत्र में क्यों हार रहे हैं. भाजपा में व्यक्तिपरक राजनीति का बोलबाला है. एकजुटता के साथ काम नहीं हो रहा है.” उन्होंने कहा कि भाजपा में खुद्दारों को तवज्जो दी जानी चाहिए न कि गद्दारों को. बैराड़ के रामबाबू मंगल ने कहा, “आज कार्यकर्ताओं के काम नहीं हो रहे हैं. वे ठगा सा महसूस कर रहे हैं.”

शिवराज सरकार का चुनावी दांव, 2 करोड़ परिवारों को 200 रुपए महीने मिलेगी भरपूर बिजली

केंद्रीय मंत्री के साथ बैठक में पूर्व विधायक कामता प्रसाद बेमटे, नरेंद्र बिरथरे, जिला मंत्री पृथ्वी सिंह जादौन, दिलीप मुद्गल, महेश आदिवासी सहित कई भाजपा नेताओं ने अपनी बात कहते हुए भाजपा सरकार में कार्यकर्ताओं की उपेक्षा का मुद्दा उठाया. बैठक के बाद पत्रकारों से चर्चा में तोमर ने कहा, “पार्टी कार्यकर्ताओं से समन्वय स्थापित करने के लिए यह बैठक आयोजित की गई थी. पार्टी के कार्यकर्ता हमारे देवदुर्लभ कार्यकर्ता हैं और हमारे परिवार के सदस्य हैं, इसलिए बातचीत करना स्वाभाविक प्रक्रिया है.” उन्होंने कहा कि बैठक का उद्देश्य था कि आने वाले समय में पार्टी का बूथ स्तर तक का कार्यकर्ता सक्रिय होकर प्रदेश व केंद्र सरकार की नीतियों को आगे बढ़ाए.

3 राज्यों के विधानसभा चुनाव में ‘विकास की खोज’ करेगी कांग्रेस

अभी हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा खरीफ फसलों के समर्थन मूल्य में की गई वृद्धि पर कांग्रेस सांसद कमलनाथ द्वारा दिए गए बयान पर तोमर ने कहा, “कांग्रेस ने अपने शासनकाल में कभी भी किसानों की चिंता नहीं की और अब हमारी सरकार ने किसानों की सुध ली है तो उनके पेट में दर्द हो रहा है.” केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार ने समर्थन मूल्य में जो वृद्धि की है, वह किसान हितैषी है और मोदी सरकार ने जो वादा किया था, उसे पूरा किया है. मोदी सरकार के इस कदम से किसानों को उनकी फसल का वाजिब दाम मिलेगा और किसानों की आय बढ़ेगी, जिससे आने वाले समय में देश की आर्थिक तरक्की में भी यह कदम लाभदायक रहेगा.