भोपाल: मध्य प्रदेश में 24 फरवरी को हुए दो विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव की मतगणना बुधवार 28 तारीख को होगी. बता दें कि 28 फरवरी को शिवपुरी जिले के कोलारस और अशोकनगर जिले के मुंगावली विधानसभा उपचुनाव की मतगणना होगी. मतगणना दौरान किसी प्रकार की हिंसक घटना न हो इसके लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. मतगणना सुबह आठ बजे से प्रारंभ होगी. इसके पहले कड़ी सुरक्षा के बीच स्ट्रांग-रूम से ईवीएम को बाहर निकाला जाएगा.

कोलारस उपचुनाव के वोटों की गिनती 23 राउंड में होंगी जबकि मुंगावली में मतों की गणना 19 राउंड में होगी. कोलारस उपचुनाव में 22 और मुंगावली में 13 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. ज्ञात हो कि दोनों स्थानों पर कांग्रेस विधायकों के निधन के चलते उपचुनाव कराए गए हैं. कोलारस में कांग्रेस के महेंद्र यादव का बीजेपी के देवेंद्र जैन से मुकाबला है. वहीं, मुंगावली में कांग्रेस के बृजेंद्र यादव के सामने बीजेपी के बाई साहब हैं.

वहीं मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सलीना सिंह ने दोनों जिलों के जिलाधिकारी और रिटनिर्ंग ऑफिसर से चर्चा कर मतगणना की तैयारियों की जानकारी ली. उन्होंने मतगणना में भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों का पालन करने को कहा है. आधिकारिक जानकारी के अनुसार, कोलारस की मतगणना शासकीय आईटीआई कॉलेज कोलारस में होगी. मुंगावली में वोटों की गिनती अशोकनगर स्थित शासकीय नेहरू डिग्री कॉलेज में की जाएगी.

कोलारस और मुंगावली उपचुनाव के वोटों की गिनती के लिए 14-14 टेबल लगाई जाएंगी. प्रत्येक टेबल के लिए एक-एक माइक्रो आब्जर्वर, गणना पर्यवेक्षक, गणना सहायक और दो अन्य कर्मचारियों को तैनात किया गया है. मतगणना की तैयारियों के मुताबिक, दोनों स्थानों पर 70-70 कर्मचारी ईवीएम में डाले गए वोटों की गिनती कराएंगे. सामान्य प्रेक्षक, जिला निर्वाचन अधिकारी और रिटनिर्ंग ऑफिसर की मौजूदगी में मतगणना होगी.

अन्य अधिकारी और कर्मचारी भी इस कार्य में जुटेंगे. अभ्यर्थियों के मतगणना एजेंट भी प्राधिकार-पत्र के साथ उपस्थित रहेंगे। संपूर्ण मतगणना की वीडियोग्राफी करवाई जाएगी.दोनों मतगणना स्थल पर त्रिस्तरीय कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहेगी. दोनों स्थलों पर सीएपीएफ की एक-एक कंपनी तथा स्थानीय पुलिस बल तैनात किया गया है. प्राधिकार-पत्र के बिना किसी भी व्यक्ति को प्रवेश की अनुमति नहीं होगी.

गौरतलब हो कि मतगणना स्थल पर कैमरा, मोबाइल आदि ले जाना प्रतिबंधित होगा. मीडिया को जानकारी देने के लिए मतगणना स्थल पर मीडिया सेंटर भी बनाया गया है. सबसे पहले डाक मत-पत्र की गिनती की जाएगी. डाक मत-पत्र की गणना रिटनिर्ंग ऑफिसर की टेबल पर होगी.