भोपाल/ छिंदवाड़ा: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा के सौंसर कस्बे में प्रशासन की अनुमति के बिना लगाई गई  छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा को हटाए जाने के बाद भाजपा ने सत्तारूढ़ कांग्रेस पर निशाना साधा है. भाजपा ने कांग्रेस शासित राज्य में शिवाजी की प्रतिमा को हटाने के लिए कमलनाथ से माफी मांगने के साथ ही शिवसेना से जवाब भी मांगा है. Also Read - West Bengal: PM मोदी के पहुंचने से पहले बवाल, हावड़ा में BJP कार्यर्ताओं पर हमला, TMC वर्कर्स पर आरोप

स्थानीय भगवा संगठनों ने प्रतिमा स्‍थापित की थी. स्थानीय प्रशासन ने सोमवार आधी रात को सौंसर कस्बे के मोहगांव चौक पर लगायी गई शिवाजी की प्रतिमा को हटा दिया. अधिकारियों ने कहा कि कार्रवाई इसलिए की गई क्योंकि प्रतिमा को अनुमति के बिना रखा गया था. Also Read - सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती: गृह मंत्री अमित शाह ने नेताजी को दी श्रद्धांजलि, कही ये बात

प्रतिमा हटाए जाने के बाद मंगलवार को बड़ी संख्या में लोगों ने छिंदवाड़ा-नागपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सड़क जाम कर दिया और प्रशासन से मांग की कि प्रतिमा को उसी स्थान पर रखा जाए. Also Read - Congress President Election: कांग्रेस ने कहा- जून में उसका नया निर्वाचित अध्यक्ष होगा

प्रतिमा हटाए जाने के बाद, बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को एक ट्वीट में, जेसीबी मशीन से प्रतिमा हटाने का एक वीडियो साझा किया और कहा कि प्रतिमा को सम्मानजनक तरीके से हटाया जा सकता था.

शिवराज ने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया, ”छत्रपति शिवाजी महाराज देश के गौरव हैं, देश के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं. उनका अपमान किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. यदि आपत्ति थी, तो उनकी प्रतिमा को सम्मानजनक तरीके से हटाया जा सकता था. लेकिन यह सरकार महापुरुषों का अपमान करने में गर्व महसूस करती है.”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने इस कार्रवाई के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ से माफी की मांग की. चौहान ने कहा कि महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार छत्रपति शिवाजी महाराज को एक आदर्श मानती है. महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार में कांग्रेस भी शामिल है. उन्होंने सवाल किया कि क्या वे (शिवसेना) उनका (शिवाजी) ऐसा अपमान बर्दाश्त करेंगे.

दूसरी ओर, राज्य कांग्रेस के प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने कहा कि भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं है तो इसे अनावश्यक रुप से तूल दे रही है. चतुर्वेदी ने कहा, ”शिवाजी महाराज कांग्रेस के लिए भी पूजनीय हैं. सौंसर में, जेसीबी मशीन का प्रयोग प्रतिमा को हटाने के लिए किया गया क्योंकि इसका प्लेटफॉर्म बहुत मजबूत था. अब, प्रतिमा को व्यवस्थित तरीके से रखा जाएगा ताकि चौराहे पर यातायात प्रभावित ना हो.”

प्रतिमा हटाए जाने के बाद मंगलवार को बड़ी संख्या में लोगों ने छिंदवाड़ा-नागपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सड़क जाम कर दिया और प्रशासन से मांग की कि प्रतिमा को उसी स्थान पर रखा जाए. सौंसर के सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) ओमप्रकाश सनोड़िया ने कहा कि प्रतिमा को इसलिए हटाया गया, क्योंकि इसे बिना किसी अनुमति के मोहगांव चौराहे पर रखा गया था.

शिवसेना नेता प्रदीप बिहाने ने कहा कि स्थानीय निवासी कई सालों से मोहगांव चौक पर शिवाजी की प्रतिमा लगाने की मांग कर रहे थे. इसलिए, भगवा संगठनों ने सोमवार को प्रतिमा को स्थापित कर दिया, लेकिन प्रशासन ने इसे हटा दिया.

सौंसर के कांग्रेस विधायक विजय चौरे ने कहा कि, स्थानीय नगरपालिका ने मंगलवार को उसी चौराहे पर प्रतिमा स्थापित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है, जहां से इसे हटा दिया गया था. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) शशांक गर्ग ने कहा कि कस्बे में शांति व्यवस्था कायम है.