रतलाम: मध्य प्रदेश के रतलाम जिले के नामली कस्बे के एक विद्यालय में ‘भारत माता की जय’ का घोष करने पर कथित तौर पर परीक्षा से वंचित किए गए 31 बच्चों को लोगों का समर्थन मिला है. लोगों ने नामली कस्बे को सोमवार को बंद रखकर अनुविभागीय अधिकारी, राजस्व (एसडीएम) नेहा भारतीय और पुलिस अधिकारी को ज्ञापन सौंपा. Also Read - अजब-गजब: बिना सैंपल लिए ही बना दिया कोरोना पॉजिटिव, लोगों ने कहा-मार डालोगे क्या

नामली कस्बे में स्थित सेंट जोसफ कॉन्वेंट स्कूल में पिछले दिनों (शुक्रवार) 9वीं कक्षा के 31 बच्चों को जमीन पर बैठाया गया और उन्हें परीक्षा देने से वंचित कर दिया गया. स्थानीय लोगों का आरोप है कि बच्चों ने एसेंबली में ‘भारत माता की जय’ का घोष किया था, जिससे उन्हें परीक्षा से वंचित किया गया. Also Read - MP में सरकारी नौकरी को लेकर शिवराज सरकार के फैसले पर उमर अब्दुल्ला का आया Reaction, कही यह बात...

स्कूल प्रबंधन की इस कार्रवाई के खिलाफ हिंदूवादी संगठनों के नेतृत्व में स्थानीय लोगों ने सोमवार को बाजार बंद कर रैली निकाली और एसडीएम को ज्ञापन सौंपा. साथ ही स्कूल के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. वहीं स्कूल प्रबंधन इस मसले पर कोई बात करने को तैयार नहीं है. Also Read - शिवराज सरकार का बड़ा फैसला- MP में सिर्फ स्थानीय निवासियों को ही मिलेगी सरकारी नौकरी

नामली के थाना प्रभारी आर.सी. कोली ने कहा, ‘स्थानीय लोगों ने एक ज्ञापन दिया है, जिसमें कहा गया है कि 31 छात्रों को सिर्फ इसलिए परीक्षा देने से वंचित किया गया है क्योंकि उन्होंने भारत माता की जय का घोष किया था. इसके अलावा इन बच्चों को जमीन पर बैठाया गया था.’ कोली के मुताबिक बच्चों को परीक्षा में बैठने को मिल रहा है या नहीं, यह मामला देखना शिक्षा विभाग का कार्य है. शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस बल तैनात है.