नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के रीवा जिले में एक 20 वर्षीय युवती ने पुलिसवालों पर गंभीर आरोप लगाए हैं. युवती के मुताबिक, पुलिसवालों ने उसे 10 दिनों तक लॉकअप में बंद रखा, जहां उसके साथ पांच पुलिसकर्मियों ने गैंगरेप किया. युवती के मुताबिक, उससे रेप करने वाले पुलिसकर्मियों में पुलिस स्टेशन का इंचार्ज और सब-डिविजनल पुलिस ऑफिसर भी शामिल थे. मामला रीवा जिले के मनगंवा का है. मामले के सामने आने के बाद अब पूरे प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है. Also Read - COVID-19 Latest News: भारत में कोरोना केस 96 लाख के पार, Death Toll कल होगी 1.40 लाख के पार

युवती के मुताबिक, बीते 9 मई को उसे हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. जिसके बाद उसे 10 दिनों तक मनगंवा थाने में लॉकअप में रखा गया और उसके साथ तत्कालीन थाना प्रभारी मनगवां मृगेंद्र सिंह, एसडीओपी मनगवां बीएस बरिबा एवं 3 पुलिस कर्मियों ने दुष्कर्म किया है. युवती के मुताबिक, इस पूरी घटना के दौरान मौके पर महिला उपनिरीक्षक सुप्रिया जैन भी मौजूद थी. Also Read - अयोध्या मस्जिद ट्रस्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, ट्रस्ट में सरकारी नुमाइंदे नहीं होंगे शामिल

युवती के इन आरोपों के बाद जिला एवं सत्र न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश अरुण कुमार सिंह ने पत्र लिखकर रीवा एसपी राकेश सिंह से पांचों पुलिसकर्मियों के खिलाफ केस दर्ज करने और मामले की जांच के आदेश दिए हैं. महिला के मुताबिक, 20 और 21 मई के बीच पुलिसकर्मियों ने उसके साथ इस पूरी घटना को अंजाम दिया. Also Read - किसान आन्दोलन: दिल्ली-नोएडा बॉर्डर से किसानों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका

हालांकि, महिला पुलिसकर्मी ने इस पूरी घटना पर आपत्ति जताई थी, लेकिन सीनियर्स ने उसे चिल्लाकर वहां से भगा दिया. वहीं पुलिसकर्मियों के मुताबिक, महिला को 21 मई को गिरफ्तार किया गया था.