भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के बैरागढ़ स्थित मूक बधिरों के लिए चलाए जा रहे साई विकलांग आश्रम सेंटर के बच्चों ने शुक्रवार को आरोप लगाया है कि आश्रम संचालक एमपी अवस्थी ने आश्रम में दो लड़कियों और तीन लड़कों का यौनशोषण किया. पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. पीड़ित मूक बधिर लड़के एवं लड़कियों ने दुभाषिये की जिम्मेदारी निभाने वाली एक महिला के जरिए यहां मध्यप्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में प्रदेश कांग्रेस मीडिया सेल की अध्यक्ष शोभा ओझा ने बुलाई गई प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह आरोप लगाया. इस दौरान इस विकलांग आश्रम के करीब 40 लड़के-लड़कियां मौजूद थे.

शोभा ने आरोप लगाया, ”साई विकलांग आश्रम सेंटर बैरागढ़, भोपाल के संस्थापक एमपी अवस्थी ने आश्रम में रह रही दो मूक बधिर लड़कियों के साथ अपने भोपाल एवं होशंगाबाद आश्रमों में बलात्कार किया और तीन बालकों के साथ अप्राकृतिक यौनशोषण किया.” उन्होंने आरोप लगाया कि उसने यौनशोषण का विरोध करने वाले बच्चों के साथ मारपीट भी की.

शोभा ने बताया कि आरोपी साल 2010 से इस तरीके का गलत काम करता आ रहा है. उसने एक मूक बधिर बच्ची के साथ वर्ष 2010 से लगातार अपने साई विकलांग आश्रम संस्था मालाखेड़ी, होशंगाबाद एवं भोपाल स्थित आश्रमों में बलात्कार किया. फरवरी 2017 में पहली बार एक पीड़ित मूकबधिर बच्ची ने होशंगाबाद कलेक्टर से शिकायत की थी, जो जांच में सही पाई गई थी, मगर हैरानी की बात ये है कि इसके बाद भी इस मामले में कोई सुनवाई नहीं हुई.

कांग्रेस मीडिया सेल की अध्यक्ष ओझा ने आरोप लगाया कि इसके बाद एक और लड़की एवं तीन लड़कों के साथ आश्रम संचालक ने यौनशोषण किया. इसके बाद दुभाषिये के साथ सभी पीड़ित मूकबधिर शुक्रवार को सामाजिक न्याय विभाग में गुहार लगाने पहुंचे, लेकिन यहां पर भी सामाजिक न्याय विभाग के अधिकारी ने मिलने का समय नहीं दिया

उन्होंने कहा कि बहरहाल, इस पूरे मामले में ये बच्चे न्याय के लिए भटक रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि मध्यप्रदेश सरकार इस मामले में चुप बैठी है. बाद में शोभा एवं मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया सेल के उपाध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता इन बच्चों को लेकर यहां टी टी नगर पुलिस थाने गए और इस मामले में शिकायत दर्ज करवाई. भोपाल के पुलिस उपमहानिरीक्षक धर्मेन्द्र चौधरी ने बताया, इस बारे में पुलिस को शिकायत मिली है और मामले की विस्तृत जांच कर रही है.