सागर: मध्य प्रदेश के सागर जिले में मतदान के दो दिन बाद ईवीएम पहुंचने पर नायब तहसीलदार (सहायक निर्वाचन अधिकारी) राजेश मेहरा को निलंबित कर दिया गया है. उन पर कार्य में लापरवाही बरतने का आरोप है. आधिकारिक तौर पर शनिवार देर शाम को जारी बयान में बताया गया कि, सागर जिले के खुरई विधानसभा क्षेत्र की ईवीएम मतदान के दो दिन बाद जिला मुख्यालय लाई गई थी. इस मामले पर शनिवार को जिलाधिकारी ने अपनी रिपोर्ट संभागायुक्त को दी, जिस पर संभागायुक्त मनोहर दुबे ने नायब तहसीलदार को अपने कर्तव्यों में लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया.

मध्य प्रदेश चुनाव: अनूपपुर में 3 दिन बाद मुख्यालय पहुंचाई गईं ईवीएम, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने स्ट्रांगरूम के बाहर डाला डेरा

निलंबन अवधि में मेहरा का मुख्यालय कार्यालय उपायुक्त भू-अभिलेख सागर में नियत किया गया है. निलंबन काल में मेहरा को नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी. बता दें कि मध्‍य प्रदेश में बीते 28 नवंबर को मतदान हुआ था और मतदान के दो दिन गुजरने के बाद शुक्रवार शाम को खुरई विधानसभा क्षेत्र की ईवीएम को एक बस से सागर लाया गया था. इस बस में नंबर तक नहीं था.

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने EVM को लेकर जताई बड़ी साजिश की आशंका

इन ईवीएम पर कांग्रेस ने सख्त ऐतराज जताते हुए, मशीनों को स्ट्रॉन्ग रूम में रखने पर आपत्ति जताई थी, जिसके चलते बाद में इन मशीनों को जिलाधिकारी कार्यालय परिसर में रखा गया था.

मप्र चुनाव: वोटिंग के बाद ईवीएम पर विवाद, कांग्रेस ने सरकारी मशीनरी पर उठाए सवाल