Onion Price In Madhya Pradesh: देश के महानगरों में प्याज की खुदरा कीमत 100 रुपये किलो के आसपास है. यहां तक कि प्याज की सबसे बड़ी मंडी नासिक के लासलगांव में प्याज का थोक मूल्य काफी ज्यादा है. लेकिन प्याज के एक दूसरे बड़े उत्पादक राज्य मध्य प्रदेश में स्थिति अलग है. यहां के किसान प्याज बेचने के लिए भटक रहे हैं. उनको उनकी फसल का वाजिक कीमत मिलना तो दूर, वे 8 से 20 रुपये किलो के भाव पर प्याज बेचने को मजबूर हैं.Also Read - Onion Price Hike: पेट्रोल-डीजल के बाद अब रूला रहीं प्याज की कीमतें, 45 दिनों में भाव हुआ दोगुना

जी न्यूज के रिपोर्ट के मुताबिक भले ही महानगरों के बड़े शहरों में प्याज के दाम आसमान छू रहे हो लेकिन मालवा के किसानों की स्थिति प्याज को लेकर अलग है. दरअसल मालवा के नीमच क्षेत्र में करीब सवा लाख किसान हैं और इस क्षेत्र में बड़े पैमाने पर प्याज की फसल बोई जाती है. इस समय महानगरों में प्याज की कीमत करीब 100 रुपये प्रति किलो है लेकिन यहां की तस्वीर कुछ और है. Also Read - Onion Price Hike: फिर से रूलाने लगी हैं प्याज की कीमतें, 15 दिनों में दो से तीन गुना बढ़ गए हैं दाम

हमने प्रदेश की सबसे बड़ी कृषि उपज मंडी कहे जाने वाली नीमच मंडी का जायजा लिया तो किसान प्याज के भाव को लेकर नाखुश दिखाई दे रहे थे. दरअसल किसानों का कहना है दीपावली का त्योहार नजदीक है और आने वाले दिनों में मंडी योग की छुट्टियां दी है ऐसे में बड़ी तादाद में किसान मंडी में प्याज बेचने को लेकर आ रहे हैं. Also Read - Onion Price Hike: फिर बढ़ने लगी प्याज की कीमतें, 28 फीसद बढ़ गया है रेट, जानिए वजह

लेकिन उन्हें यहां पर प्याज के भाव 8 रुपए से लेकर 25 से 35 रुपए प्रति किलो है. किसानों का कहना है वे दो-तीन दिनों से प्याज बेचने को लेकर मंडी में आए हुए हैं लेकिन प्याज के भाव कम ही मिल पा रहे हैं. किसानों का आरोप है कि मंडी व्यापारी और बिचौलियों के चलते किसानों को प्याज का दाम पूरा नहीं मिल पा रहा है.

मंडी व्यापारी का कहना है पुराना प्याज 55 रुपये प्रति किलो से ऊपर में बिक रहा रहा है तो वही लो क्वालिटी का 8 रुपये से बोली लग रही है. तो वही मंडी सचिव सतीश पटेल का कहना है कि किसान भाई प्याज के दाम को लेकर प्रसन्न हैं. उन्हें हाईएस्ट 70 रुपए प्रति किलो के हिसाब से भी प्याज का दाम मिला है. मंडी में गुरुवार को प्याज की आवक करीब 15000 बोरी है. जब मंडी सचिव से महानगरों में बिकने वाले प्याज को लेकर बात की गई तो उनका कहना था यहां से जब प्याज बाहर जाता है तो उस पर भाड़ा टैक्स लगता है जिस वजह से वह महंगा हो जाता है.

हालांकि व्यापारी और अधिकारी के अपने-अपने तर्क हैं लेकिन किसानों की हालत तो वही बनी हुई है. यहां तक कि किसानों का तो यह भी कहना है एक बीघा में उगाई गई प्याज की फसल करीब 25000 का खर्च आता है. किसानों को कम से कम 70 रुपए प्रति किलो प्याज के हिसाब से तो दाम मिलना ही चाहिए. बात की जाए रिटेल मार्केट की तो यहां पर 40 रुपए से लगाकर 60 रुपये किलो में ग्राहकों को प्याज बेचा जा रहा है.

(इनपुट जी मीडिया रिपोर्टर)