इंदौर: देश में कोरोना वायरस के प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित शहरों में मध्‍य प्रदेश के इंदौर में एक महीने से ज्यादा वक्त से कर्फ्यू लगा है. इसके बावजूद बड़ी संख्‍या में इस महामारी के नए मरीज सामने आ रहे हैं. इससे महामारी के फैलने की हकीकत के साथ ही कर्फ्यू के पालन को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं. Also Read - कोरोना वायरस से हुई पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर की मौत, परिवार ने आनन-फानन में दफनाया

अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान 94 नए मामले मिलने के बाद जिले में कोविड-19 के मरीजों की तादाद 1,372 से बढ़कर 1,466 पर पहुंच गयी है. जिले में इस महामारी के अधिकतर मामले इंदौर शहर से सामने आये हैं, जहां कोरोना वायरस का पहला मरीज मिलने के बाद से प्रशासन ने 25 मार्च से कर्फ्यू लगा रखा है. Also Read - 15 दिन में एक लाख से अधिक लोग हुए कोरोना संक्रमित, बिगड़ सकती है स्थिति


अधिकारियों ने बताया कि पिछले 24 घंटे में जो जांच रिपोर्ट आयी हैं, उनमें दो मरीजों की मौत से पहले लिये गये नमूने भी कोविड-19 से संक्रमित पाये गये हैं. इनमें शामिल 70 वर्षीय पुरुष ने 17 अप्रैल को शहर के एक निजी अस्पताल में दम तोड़ा था. वह मधुमेह से भी पीड़ित थे. दूसरे मामले में 45 वर्षीय पुरुष ने 23 अप्रैल को इसी अस्पताल में आखिरी सांस ली थी. वह किडनी संबंधी बीमारी से पहले ही जूझ रहे थे. अधिकारियों ने बताया कि दोनों मामलों को मिलाकर जिले में कोविड-19 संक्रमण के बाद मरने वाले मरीजों की तादाद 63 से बढ़कर 65 पर पहुंच गई है.

कर्फ्यू लगा होने के बाद भी शहर में बड़ी तादाद में कोविड-19 के नए मरीज सामने आने के बारे में पूछे जाने पर स्वास्थ्य विभाग रटा-रटाया जवाब दोहरा रहा है. मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) प्रवीण जड़िया ने से कहा, “शहर में कोविड-19 के जो नये मरीज मिल रहे हैं, उनमें से ज्यादातर लोग इस महामारी के पुराने मरीजों के सगे-संबंधी या परिचित हैं. मरीजों के संपर्क में आये ऐसे सभी लोगों को सावधानी के तौर पर पहले ही अलग किया जा चुका है.”

सीएमएचओ ने कहा, “शहर में कोविड-19 के ज्यादातर नए मरीज उन्हीं इलाकों में मिल रहे हैं, जिन्हें कई दिन पहले ही रोकथाम क्षेत्र (कंटेनमेंट जोन) घोषित कर सील किया जा चुका है.” बहरहाल, शहर में कोविड-19 की रोकथाम के सरकारी अभियान से जुड़े सूत्रों का कहना है कि प्रयोगशालाओं से नमूनों की जांच रिपोर्ट आने में देरी बरकरार है, जिससे इस मुहिम पर स्वाभाविक रूप से असर पड़ रहा है.

कोविड-19 को लेकर शहर में स्थिति नियंत्रण में होने का दावा करने वाले स्थानीय प्रशासन का कहना है कि वह नमूनों की जांच की रफ्तार बढ़ाने का हरसंभव प्रयास कर रहा है. इंदौर संभाग के आयुक्त (राजस्व) आकाश त्रिपाठी ने बताया, “फिलहाल शहर की एक सरकारी प्रयोगशाला में हर दिन 400 से अधिक नमूनों की कोविड-19 की जांच हो रही है.

प्रयोगशाला में कुछ स्वचालित जांच मशीनें जल्द ही शुरू होने वाली हैं जिससे यह क्षमता बढ़कर 650 से 800 नमूनों तक हो जायेगी.” उन्होंने बताया दूसरे शहरों की सरकारी प्रयोगशालाओं के साथ ही निजी क्षेत्र की कुछ मान्यताप्राप्त प्रयोगशालाओं से भी नमूनों की जांच करायी जा रही है ताकि इनकी कोविड-19 की रिपोर्ट जल्द से जल्द आ सके.

इस बीच, सरकारी तंत्र के लिए राहत की बात यह है कि जिले में कोविड-19 के मरीजों की मृत्यु दर में पिछले 20 दिन के दौरान बड़ी गिरावट दर्ज की गई है. प्रदेश सरकार के आंकड़ों के मुताबिक 9 अप्रैल की सुबह की स्थिति के अनुसार जिले में कोविड-19 के मरीजों की मृत्यु दर 10.33 प्रतिशत थी.

ताजा आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि 29 अप्रैल (बुधवार) की सुबह की स्थिति में जिले में कोविड-19 के मरीजों की मृत्यु दर प्रतिशत घटकर 4.43 प्रतिशत रह गई है.