ग्वालियर: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की नाजुक हालत की खबर ने मध्य प्रदेश में उनकी गृहनगरी ग्वालियर के लोगों को मायूस कर दिया है. बड़ी संख्या में लोग कमलसिंह के बाग स्थित उस इमारत के करीब जमा होने लगे हैं, जिसमें कभी पूर्व प्रधानमंत्री रहा करते थे. अब इस इमारत को पुस्तकालय और प्रशिक्षण केंद्र में बदल दिया गया है. Also Read - 3000 मी. की ऊंचाई पर बनी दुनिया की सबसे लंबी सुरंग का नाम पूर्व पीएम के नाम पर होगा

Also Read - Madhya Pradesh Election Results 2018: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के भांजे अनूप मिश्रा 502 वोट से पीछे

अटल जी का जन्म ग्वालियर में हुआ और उनका बचपन यहीं बीता. वे यहां प्रधानमंत्री बनने के बाद भी आते रहे और उनका लोगों से ठीक वैसा ही लगाव रहा, जैसा बीते दौर में हुआ करता था. बीते नौ साल से अस्वस्थ्य होने के कारण वे ग्वालियर नहीं आ पाए. Also Read - छत्‍तीसगढ़: सीएम रमन सिंह के गढ़ में पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर टिकट मांग रही हैं भाजपा और कांग्रेस

अटल की चुटीली हाजिरजवाबी जिसने पूछने वाले की कर दी बोलती बंद

अटल जी की भतीजी लक्ष्मी मिश्रा ने संवाददाताओं को बताया,”बीते नौ साल से अटल जी के यहां नहीं आने का सभी को मलाल है. बचपन की अनेक यादें हैं, उनका मिलना ही सभी को ऊर्जा देता था. वे देश के भले ही प्रधानमंत्री रहे, मगर हमारे तो चाचा हैं.”

…जब दौड़कर वाजपेयी से लिपट गए थे नरेंद्र मोदी, देखें ये दुर्लभ VIDEO

कमलसिंह बाग के मकान के करीब रहने वाले रवींद्र कहते हैं, “अटल जी जब भी ग्वालियर आते थे, तो बच्चों को लेकर ग्वालियर मेला जाते थे, झूला झूलते थे. हर बच्चे के प्रति उनके दिल में स्नेह और प्यार था.” ग्वालियर के हर वर्ग में मायूसी है. हर तरफ यही कामना की जा रही है कि वे शीघ्र स्वस्थ्य हों और अपने नगर आएं. मंदिरों से लेकर विभिन्न स्थानों पर पूजा पाठ का दौर जारी हैं.

VIDEO: जब Atal Bihari Vajpayee ने गाया ‘गीत नहीं गाता हूं…’, सुनकर भर आंएगे आंखों में आंसू…

दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत काफी खराब हो गई है. दो महीने से ज्यादा समय से भर्ती वाजपेयी मंगलवार से ही वेंटिलेटर पर हैं. बुधवार शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी वाजपेयी से मिलने पहुंचे और उनकी हालत की जानकारी ली. इससे पहले केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी एम्स में उनकी तबीयत देखने पहुंची थीं.

मौत से ठन गई’ पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की, लिखा था- लौटकर आऊंगा

एम्स ने बयान जारी कर कहा है कि पिछले 24 घंटे में पूर्व पीएम की हालत बेहद गंभीर हो गई है और उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. कई दूसरे नेता भी वाजपेयी का हालचाल लेने एम्स पहुंच रहे हैं. रेल मंत्री पीयूष गोयल भी उन्हें देखने एम्स पहुंचे. गुरुवार सुबह से भी एम्‍स में उन्‍हें देखने आने वाले नेताओं का सिलसिला जारी है.