उज्जैन (मध्यप्रदेश): किशोर न्याय बोर्ड ने उज्जैन जिले के घट्टिया पुलिस थानाक्षेत्र में 15 अगस्त को चार साल की मासूम बच्ची से रेप के मामले में 14 साल किशोर को दो साल की सजा सुनाई है. इस मामले में घटना के मात्र 5वें दिन ही सजा सुना दी गई, जबकि अदालत ने केवल 7 घंटे ही सुनवाई के बाद फैसला सुनाया, जो अभूतपूर्व है. किशोर न्याय बोर्ड मालनवासा की न्यायाधीश तृप्ती पांडे ने चार साल की बच्ची से दुष्कर्म के मामले में 14 वर्षीय बालक को कल दो साल की सजा सुनाई. सबसे खास बात ये हैं कि सोमवार को ही आरोपी का चालान पेश किया गया और उसी दिन शाम को फैसला आया. देश में ये संभवता: पहला मामला है, जिसमें रेप की घटना के बाद इतनी जल्दी फैसला आया है.

एमपी: मंदसौर रेपकांड में 59 वें दिन कोर्ट ने दोनों रेपिस्टों को सुनाई फांसी की सजा 

विकृत मानसिक स्थिति को ठीक करने के लिए सजा

कोर्ट ने सजा का ऐलान करते वक्त अपनी टिप्पणी में कहा, ” समाज में बच्चों के खिलाफ यौन शोषण की प्रवृति तेजी से बढ़ रही है. ऐसी विकृत मानसिक स्थिति को ठीक करने के लिए इस अपचारी बालक को दो साल की सजा से दंडित करने की जरूरत है.”

सुबह 10.45 बजे आरोप पत्र पेश, शाम 6 बजे बजे फैसला

सरकारी वकील दीपेन्द्र मालू ने मंगलवार को बताया कि अदालत ने किशोर को सिवनी बाल सम्प्रेक्षण गृह भेजे जाने का निर्णय किया. उन्होंने कहा, ” उज्जैन पुलिस ने केवल पांच दिन में इस प्रकरण की संपूर्ण कार्यवाही पूर्ण करके न्यायालय में अभियोग पत्र सोमवार सुबह 10.45 बजे प्रस्तुत किया और अदालत ने मात्र 7 घंटे की सुनवाई के बाद सोमवार शाम ही करीब 6 बजे अपना फैसला सुना दिया.”

VIDEO: मंदसौर में 7 साल की बच्ची से रेप के आरोपी को बीजेपी नेता ने मारा थप्पड़

सबसे कम समय में फैसला आया

सरकारी वकील मालू ने दावा किया कि जब से पॉक्सो कानून अस्तित्व में आया है, तब से संभवत: यह पहला मामला है, जब मासूम बच्ची से बलात्कार के मामले में इतने कम समय में फैसला आया है.

चार दिन में जांच पूरी

प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने आरोपी को राजस्थान के गंगधार थाना इलाके चौमहला गांव से न केवल पकड़ा, बल्कि डीएनए जैसी जांच करवाकर चार दिन में जांच पूरी की. साथ ही पांचवें दिन सोमवार को चालान पेश भी कर दिया था, जिस पर सोमवार ही फैसला आ गया.

पॉक्सो कानून के तहत दर्ज किया था केस

उज्जैन जिले के एसपी सचिन अतुलकर ने बताया कि उज्जैन जिले के घट्टिया पुलिस थानाक्षेत्र के जलवा गांव में 14 वर्षीय किशोर द्वारा इस चार वर्षीय बालिका के साथ 15 अगस्त 2018 को बलात्कार किया गया था. यह घटना उस वक्त हुई थी, जब पीड़ित बच्ची अन्य बच्चों के साथ आरोपी के घर पर खेलने गई थी. बालिका द्वारा परिजन को आपबीती बताने के बाद परिजनों ने घट्टिया पुलिस थाने में उसी शाम मामले की शिकायत दर्ज करवाई थी. पुलिस ने आरोपी किशोर के खिलाफ आईपी की धारा 376 (बलात्कार) और पॉक्सो कानून के तहत मामला दर्ज किया था.