भोपाल: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश में ‘मेक इन इंडिया’ की बात करते हैं तो कांग्रेस ‘ब्रेक इन इंडिया’ की बात करती है. एमपी के शाजापुर में गुरुवार को चुनावी सभा को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, ”हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी आज पूरे देश मे मेक इन इंडिया की बात करते है और कांग्रेस ब्रेक इन इंडिया की बात करती है. कांग्रेस विकास नही करेगी. भाजपा विकास के साथ-साथ किसानों की आय भी दो गुना करेगी.” Also Read - गुजरात में कांग्रेस के एक और विधायक ने दिया इस्‍तीफा, राज्‍यसभा चुनाव से पहले 8 MLA ने छोड़ा साथ

बीजेपी अध्यक्ष शाह ने कांग्रेस पर घुसपैठियों को देश में वोटबैंक के तौर पर लेने का आरोप लगाया और  कहा कि हमारी सरकार ने 40 लाख घुसपैठियों को चिह्नित किया है और हम यही नहीं रुकने वाले हैं. उन्होंने यह भी दावा किया कि साल 2019 में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हम केंद्र में सरकार बनाएंगे और ”देश भर से चुन-चुन कर घुसपैठियों को बाहर करेंगे. हमारे लिए देश की सुरक्षा सबसे पहले है.”

सर्जिकल स्ट्राइक पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के ‘खून की दलाली’ के बयान पर उनकी आलोचना करते हुए शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने उरी हमले के दस दिन के अंदर ही कार्रवाई की, जबकि पहले की सरकारों ने ऐसा नहीं किया.

बीजेपी अध्यक्ष ने दावा किया कि भाजपा सरकार के शासनकाल में कोई देश की सीमा को छू नहीं सकता है. शाह ने आरोप लगाया, ” राहुल गांधी कहते हैं मोदी जी खून की दलाली में शामिल हैं…राहुल बाबा, सेना के जवानों की शहादत का मूल्य आप कैसे जानेगें? देश की आत्मा आपके शरीर में नहीं है.”

बीजेपी अध्‍यक्ष शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश मे 129 योजनाएं लागू की है, जिससे देश की जनता का जीवन स्तर ऊपर उठा है. ”राहुल गांधी और सोनिया गांधी को अपनी आंखों पर लगा इटालियन चश्मा हटाकर देखना चाहिए कि हमने देश में क्या काम किया है.”

कांग्रेस पर किसानों हितों को अनदेखा करने का आरोप लगाते हुए शाह ने कहा कि भाजपा सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दुगनी करने का लक्ष्य रखा है. उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में भाजपा शासन काल में प्रदेश की जीडीपी में छह गुना की वृद्धि हुई है जबकि प्रदेश का बजट में दस गुना बढ़ा है.

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि ”श्रीमान बंटाधार” के शासन में प्रदेश में न तो सड़क थी और न ही बिजली. शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा का शासन आने के बाद प्रदेश बीमारू राज्य से विकसित राज्य की पंक्ति में आया. भाजपा सरकार प्रदेश को अब आगे समृद्ध राज्य बनाना चाहती है.