इंदौर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तुलना के चलन को सरासर गलत करार देते हुए भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने कहा है कि वह अपनी पार्टी के किसी जिलाध्यक्ष को भी राहुल से बेहतर मानते हैं. अपने विवादित बयान में उन्होंने कहा है कि राहुल केवल विरासत की राजनीति के चलते कांग्रेस में बने हुए हैं. उन्हें सामान्य बातों की भी समझ नहीं है.Also Read - PM Modi's UP Visit: सिद्धार्थनगर और काशी में पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें

Also Read - PM Modi's UP Visit Live: गरीब माता-पिता का बच्चा भी डॉक्टर बनने का सपना देख और पूरा कर सकेगा - पीएम मोदी

नरेंद्र मोदी से तुलना बेमानी Also Read - Pradhan Mantri Atmanirbhar Swasth Bharat Yojana आज होगी लॉन्च, पीएम मोदी यूपी दौरे पर

उन्होंने गुरुवार रात संवाददाताओं से कहा, “मुझे बड़ा दु:ख होता है, जब कोई व्यक्ति मोदी की राहुल से तुलना करता है. ऐसा करना प्रधानमंत्री का अपमान है. मैं अपनी पार्टी के किसी जिलाध्यक्ष को भी राहुल से बेहतर मानता हूं.” झा ने कहा, “राहुल की अगुवाई में कांग्रेस का सारा सियासी साम्राज्य लुट चुका है, लेकिन वह विरासत की राजनीति के कारण कांग्रेस में बने हुए हैं. अगर उनकी जगह कोई और नेता होता, तो उसे अब तक कांग्रेस से धक्का देकर बाहर कर दिया जाता.” उन्होंने कहा, “मैं राहुल को चुनौती देता हूं कि वह मंच पर खड़े होकर भारत के सभी राज्यों और विश्व के 50 राष्ट्रों के नाम बता दें. उन्हें यह भी पता नहीं होगा कि आलू जमीन के ऊपर उगता है या जमीन के भीतर. क्या ऐसा नेता भारत का नेतृत्व कर सकता है.”

स्वामी की शिवराज सरकार को सलाह, गौ-मंत्रालय बनाएं, राज्य बनेगा ‘गोल्डन मध्यप्रदेश’

जम्मू कश्मीर में समर्थन वापसी को बताया साहसिक फैसला

भाजपा द्वारा जम्मू-कश्मीर को राजनीति की प्रयोगशाला बनाने के आरोपों को खारिज करते हुए पार्टी उपाध्यक्ष ने कहा, “पिछले विधानसभा चुनावों में हमने विखंडित जनादेश के कारण जम्मू-कश्मीर में पीडीपी के साथ सरकार बनायी थी. लेकिन पानी जब सिर के ऊपर आने लगा, तो हमने सत्ता का मोह छोड़ने का साहसिक निर्णय किया ताकि जम्मू-कश्मीर को बचाया जा सके.”

बुजुर्गों की हालत बदहाल, देश के एक सबसे बड़े नेता की पत्नी का बेटों ने किया ये ‘हाल’

शिवराज ही होंगे मध्यप्रदेश में पार्टी का चेहरा

झा ने यह भी कहा है कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पार्टी संगठन का ही हिस्सा हैं और सूबे में लगातार चौथी बार भाजपा की सरकार बनाने के लिए उन्हीं के चेहरे के आधार पर अगला विधानसभा चुनाव लड़ा जायेगा. उन्होंने इस साल के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा के नेतृत्व में बदलाव की संभावना की तमाम अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश के तहत यह बात कही. झा ने कहा, “(भाजपा में) संगठन ही चुनाव लड़ाता है और संगठन का नाम जैसे केंद्र में नरेंद्र मोदी है, वैसे ही प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान है. वह (शिवराज) संगठन के ही हैं और उनके नाम पर ही हम अगला विधानसभा चुनाव लड़ेंगे.” उन्होंने कहा कि शिवराज फिलहाल भाजपा के संसदीय बोर्ड के सदस्य हैं. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने से पहले वह भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी की युवा इकाई के राष्ट्रीय अध्यक्ष समेत अलग-अलग सांगठनिक पदों पर रह चुके हैं.

एमपी में कांग्रेस से कोई गठबंधन नहीं, बीएसपी सभी 230 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

झा ने मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ को “उद्योगपति” और वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को “महलपति” करार देते हुए कहा कि दोनों लोकसभा सांसद केवल अपने संसदीय क्षेत्रों की अगुवाई करते हैं और वे प्रदेशस्तरीय नेता नहीं हैं.