नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव कैंपने की शुरुआत बस यात्रा से करेंगे. इकोनॉमिक्स टाइम्स की खबर के मुताबिक राहुल गांधी सितंबर के शुरुआत में नर्मदा नदी के तट पर स्थित ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग श्राइन से इस यात्रा को शुरू करेंगे. कांग्रेस अगस्त महीने के अंत में चुनावी घोषणा पत्र यानी मेनिफेस्टो जारी करेगी. वहीं सितंबर के मध्य में उम्मीदवारों का एलान कर सकती है. पार्टी नेतृत्व जल्द ही उन सीटों पर प्लान तैयार करेगा जहां बीएसपी से गठबंधन में चुनाव लड़ेगी. Also Read - केंद्र सरकार पर कांग्रेस का आरोप, डर कर बदला दवा देने का फैसला, 1971 में इंदिरा गांधी ने दिया था करारा जवाब

एमपी में शिवराज सरकार ने 3 पूर्व मुख्यमंत्रियों को फिर वहीं सरकारी बंगले आवंटित किए Also Read - ट्रंप की धमकी के बाद अमेरिका को दवा भेजने पर राहुल गांधी ने कहा- मदद की जाए, लेकिन...

राहुल गांधी की यात्रा और कांग्रेस के घोषणापत्र में किसानों की समस्या, बेरोजगारी, महिलाओं की समस्या और बीजेपी सरकार की असफलता पर फोकस होगा.मंगलवार को मध्य प्रदेश के नेताओं के साथ हुई मीटिंग में इन मुद्दों पर चर्चा हुई. मध्य प्रदेश में कांग्रेस के भीतर गुटबाजी की खबरों के बीच पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने राज्य के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की. Also Read - कांग्रेस ने सांसदों के वेतन में कटौती का स्वागत किया, सांसद निधि बहाल करने की मांग

मराठा आंदोलन में मराठाओं की मांग से लेकर कोर्ट-सरकार तक का तर्क, 10 सवाल का पढ़ें जवाब

बीमार चल रहे द्रमुक नेता एम करुणानिधि को देखने के लिए चेन्नई रवाना होने से पहले गांधी ने मंगलवार सुबह मध्यप्रदेश से जुड़े कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ राज्य में पार्टी की वर्तमान स्थिति और चुनाव तैयारी की समीक्षा की.इस बैठक में कांग्रेस के मध्य प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया, प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ, चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया और वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह मौजूद रहे.

मायावती का NRC को लेकर बड़ा हमला, कहा-असम में अनर्थ कर अपना मकसद साध रही BJP

हाल के दिनों में मध्य प्रदेश कांग्रेस में गुटबाजी की खबरें आई हैं. हाल ही में रीवा में बाबरिया के साथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर धक्का-मुक्की की थी. खबरों के मुताबिक बाबरिया ने बयान दिया था कि राज्य में कमल नाथ और सिंधिया ही मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं जिससे प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय सिंह के समर्थक नाराज हो गए और उनके साथ कथित तौर पर धक्का-मुक्की की.दूसरी तरफ बाबरिया के करीबी ऐसी किसी भी घटना से इनकार कर रहे हैं.