मुरैना: मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मुरैना जिले में प्रशासन ने मतदाताओं को मतदान के लिए जागरूक करने में चम्बल सेंचुरी के दुर्लभ घडियालों का सहारा लिया है. प्रशासन द्वारा मतदाताओं को  ‘घड़ियाल के शुभंकर’ वाले आमन्त्रण पत्र भेजा जा रहा है, ताकि मतदान प्रतिशत बढ़ाया जा सके.

घड़ियाल है शुभंकर
इस आमंत्रण पत्र पर घड़ियाल का ‘शुभंकर’ उसी तरह बना है, जिस तरह शादी के आमंत्रण कार्ड पर हिन्दू समुदाय के लोग ‘भगवान गणेश’ का ‘शुभंकर’ बनाते हैं. यह आमंत्रण पत्र मुरैना जिला निर्वाचन अधिकारी की ओर से भेजा जा रहा है. मुरैना जिले के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी भरत यादव ने बताया, ‘‘चंबल अंचल के मुरैना जिले में मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के लिए हमने चम्बल अभयारण्य के दुर्लभ जलीय जीव ‘घड़ियाल’ को विधानसभा चुनाव 2018 शुभंकर बनाकर मतदाताओं में जागरूकता पैदा करने का एक अभिनव तरीका शुरू किया है.’’

लोकतंत्र की यही पुकार, वोट देना अबकी बार
उन्होंने कहा, ‘‘मतदाता जागरूक अभियान के तहत मतदाताओं में जागरूकता और अधिकतम मतदान के लिये चलाये जा रहे प्रचार-प्रसार के लिए छपवाये गये आमन्त्रण पत्र पर जलीय जीव घड़ियाल का ‘शुभंकर’ लगाकर मतदाताओं को भेजा जा रहा है. इस अभियान के तहत लगवाये जाने वाले पोस्टरों पर भी घड़ियाल का ‘शुभंकर’ लगाया जा रहा है.’’ यादव ने बताया कि यहां के अंचल व पर्यटकों के लिये घड़ियाल हमेशा से कौतूहल का विषय रहे हैं जिसे ध्यान में रखते हुए मतदाताओं को जोड़ने के लिये घड़ियाल का ‘शुभंकर’ लगाने का निर्णय लिया गया.

एमपी चुनाव: कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र, बिजली बिल आधा करने और किसानों की कर्जमाफी का वादा

यादव ने बताया, ‘‘आमंत्रण पत्र के मुखपृष्ठ पर स्लोगन दिया गया है – ‘लोकतंत्र की यही पुकार, वोट देना अबकी बार’. साथ ही लोगो’ पर बड़े-बड़े शब्दों में हिन्दी में लिखा गया है – ‘शुभंकर – घड़ियाल’ एवं ‘हमें ही रखना है मुरैना की आन, चलो सभी करें निष्पक्ष मतदान’.’’ यादव ने बताया कि शुभंकर घड़ियाल के साथ भेजे जा रहे आमंत्रण पत्र पर लिखा है ‘‘सम्माननीय मतदाता, जैसा कि आपको विदित है कि मध्यप्रदेश विधानसभा निर्वाचन 2018 दिनांक 28 नवंबर को सम्पन्न होने जा रहा है. राष्ट्रीय महत्व के इस दिवस पर आप समस्त मतदाता सादर आमंत्रित हैं. कृपया अपने मतदान केन्द्र पर पहुंचकर अपने मताधिकार का प्रयोग कर अपने कर्तव्य का राष्ट्रहित में निर्वहन करें.’’

चुनावी सर्वे: मध्यप्रदेश, राजस्थान और तेलंगाना में कांग्रेस को बहुमत का अनुमान, छत्तीसगढ़ में कड़ी टक्कर

चंबल घड़ियाल अभयारण्य की लंबाई 365 किलोमीटर है. यह मध्यप्रदेश के मुरैना एवं भिंड जिले सहित प्रदेश से सटे हुए राजस्थान के धौलपुर तथा उत्तरप्रदेश के आगरा और इटावा जिलों तक फैला है. मुरैना के देवरी गांव में घड़ियाल का संरक्षण एवं संवर्धन सेंटर है. वर्ष 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में प्रदेश में औसतन 72.69 प्रतिशत मतदात हुआ था, जबकि मुरैना जिले में केवल 65.60 प्रतिशत मतदान ही हुआ था. मुरैना जिले में प्रदेश की कुल 230 विधानसभा सीटों में छह सीटें आती हैं, जिनमें सबलगढ़, जौरा, सुमावली, मुरैना, डिमनी एवं अंबाह सीटें शामिल हैं. (इनपुट भाषा)