बुधनी (मध्य प्रदेश). मध्यप्रदेश में इस महीने के आखिर में चुनाव होने हैं. 28 नवंबर को प्रदेश की विधानसभा की 230 सीटों के लिए होने वाले चुनाव में जिस सबसे बड़ी और वीआईपी सीट पर लोगों की नजरें टिकी हुई हैं, वह है सीहोर जिले की बुधनी विधानसभा. यहां से प्रदेश के मुख्यमंत्री और चौथी बार भाजपा की सरकार लाने के लिए जी-तोड़ मेहनत करने में जुटे शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) भाजपा के उम्मीदवार हैं. इनके खिलाफ राज्य की प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस की तरफ से पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव (Arun Yadav) चुनाव लड़ रहे हैं. दोनों ही नेता प्रदेश की राजनीति के बड़े सूरमा माने जाते हैं. जाहिर है चुनाव में होने वाली जुबानी जंग में भी इसका असर दिखेगा ही. शुक्रवार को अरुण यादव ने कहा कि बुधनी सीट की यह लड़ाई किसान के नकली और असली पुत्र के बीच होगी. चौहान और यादव दोनों ओबीसी वर्ग से आते हैं और दोनों अपने को किसान पुत्र बताते हैं. यादव के बयान के जवाब में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने तंज किया कि कांग्रेस ने अरुण यादव को बुधनी से उतारकर उनके साथ अन्याय किया है. Also Read - मोदी के नेतृत्व में भारत की जनता के सामूहिक संकल्प से परास्त होगा कोरोना: शिवराज सिंह चौहान

बुधनी में शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ अरुण यादव- थोपी गई उम्‍मीदवारी या सीएम को वाकओवर? Also Read - MP में BJP सरकार बनने पर दिग्विजय सिंह ने लिखा खुला खत, ज्योतिरादित्य सिंधिया पर की लंबी बात

बुधनी से अपना नामांकन दाखिल करने के पहले अरुण यादव ने चौहान पर निशाना साधते हुए कहा, ‘मैं यहां शिवराज को घेरने नहीं, पूरे दृढ़ विश्वास के साथ उन्हें हराने आया हूं. मेरी पूरी पार्टी मेरे साथ चट्टान की तरह खड़ी है.’ शिवराज को नकली किसान पुत्र बताते हुए उन्होंने कहा, ‘यह लड़ाई किसान के नकली और असली पुत्र के बीच होगी.’ यादव ने कहा, ‘शिवराज कैबिनेट में 18 मंत्री खेती करने वाले हैं, जिनकी आय कृषि के कारण पिछले चार साल में 144 प्रतिशत बढ़ी है. ऐसा 11 प्रत्याशियों के हाल ही में भरे नामांकन में सामने आया है.’ कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने कहा, ‘यदि यह सच है तो मुख्यमंत्री बताएं कि प्रदेश में उनके कार्यकाल में अब तक 30,000 किसानों ने आत्महत्या क्यों की? प्रदेश में सबसे अधिक आत्महत्या करने वाले किसान उनके गृह जिले सीहोर के ही क्यों है?’ यादव ने कहा, ‘मुझे मां नर्मदा ने अपनी रेत में हुए अवैध उत्खनन के एक-एक कण व भ्रष्टाचार का हिसाब लेने के लिए बुधनी बुलाया है.’ उन्होंने सवाल किया कि पिछले 14 साल में शिवराज ने बुधनी के कितने युवाओं को रोजगार दिया? Also Read - चौथी बार मध्यप्रदेश के सीएम बने शिवराज सिंह चौहान, राजभवन में ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

यह भी पढ़ें – विधानसभा चुनाव लड़ने में मैंने रुचि नहीं ली, बेटे के लिए नहीं मांगा टिकिट: विजयवर्गीय

इस बीच, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस द्वारा अरुण यादव को बुधनी सीट से उतारे जाने पर टिप्पणी करते हुए कहा, ‘हम सीधे-साधे पिछड़े लोग कई बार शिकार होते रहते हैं. अरुण यादव के साथ तीन महीने में दूसरी बार अन्याय हुआ है. पहले मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाकर उनके साथ (कांग्रेस ने) अन्याय किया. और अब बुधनी से टिकट दिया.’ चौहान ने आगे कहा, ‘मैं कार्यकर्ताओं से निवेदन करता हूं कि अरुण यादव को बुधनी में यथोचित सम्मान मिले.’ कांग्रेस उम्मीदवार अरुण यादव और सीएम शिवराज के बयानों को देखने के बाद आप सीहोर जिले की बुधनी विधानसभा के लिए होने वाले चुनाव की गर्मी का अंदाजा लगा सकते हैं.

(इनपुट – एजेंसी)

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com