बैतूल: मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के पाथाखेड़ा में पश्चिम कोयला खदान (डब्ल्यूसीएल) की बन्द खदान से अवैध तौर पर कोयला खनन करते वक्त रविवार को खदान धंसने से तीन महिलाओं और एक बालिका की दबने से मौत हो गयी. जिला पुलिस अधीक्षक डी आर तेनीवार ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि जिला मुख्यालय से लगभग 50 किलोमीटर दूर पाथाखेड़ा की डब्ल्यूसीएल की बन्द कोयला खदान में कालीमाई क्षेत्र की महिलाएं कोयले का खनन कर रही थीं. इसी दौरान सतपुड़ा-2 खदान में यह हादसा हुआ. Also Read - UP: CM योगी का निर्देश, शवों को बहाने पर रोक लगाने के लिए पुलिस नदियों में करे गश्त

Also Read - Nargis-Sunil Dutt Love Story: सुनील दत्त की लाई साड़ियां नहीं पहनती थीं नरगिस, डॉक्टर ने दी थी मारने की सलाह

उन्होंने बताया कि जिला कलेक्टर शशांक मिश्र दुर्घटना स्थल पर पहुंच गये हैं तथा अधिकारियों की देखरेख में राहत कार्य शुरू कर दिया गया है. हादसे में एक घायल महिला संध्या डेहरिया (37) को बैतूल के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. Also Read - स्टडी में खुलासा, कोविड-19 से ठीक हो चुके लोगों में मौत, गंभीर बीमारी का खतरा ज्यादा

यह भी पढ़ें: फिरोजाबाद: टेंपो और कार पर गिरा ट्रक, हादसे में 13 लोगों की मौत

अनुविभागीय दंडाधिकारी एस के भंडारी ने बताया कि मृतकों की पहचान नीतू चोरसे (41), मीना भोरसे (32), मनीबाई पाढेकर (30) और 11 वर्षीय बालिका पायल देशमुख के तौर पर हुयी है. ये सभी खदान के पास टट्टा कॉलोनी की रहने वाली हैं.