भोपाल: मध्यप्रदेश की राजधानी के भाजपा कार्यालय में शनिवार को कांग्रेस के दो सौ से ज्यादा कार्यकर्ताओं ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली. इस आयोजन में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न किए जाने का आरोप लगाते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सवाल किया है कि क्या सारे नियम कायदे गरीबों के लिए हैं? भाजपा के प्रदेश कार्यालय में आयोजित समारोह में सांची विधानसभा और रायसेन नगर ग्रामीण के सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता और पदाधिकारी शनिवार को भाजपा में शामिल हुए. मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने उनका स्वागत कर पार्टी की विधिवत सदस्यता दिलाई. इस मौके पर पूर्व मंत्री प्रभुराम चौधरी एवं रामपाल सिंह विशेष रूप से उपस्थित थे. Also Read - धरना दे रहे BJP नेता हिरासत में, दिल्ली सरकार से मांग रहे थे विज्ञापनों का हिसाब

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने भाजपा कार्यालय में आयोजित सदस्यता अभियान में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न किए जाने का जिक्र करते हुए कहा, “शिवराज जी, कल कोरोना की समीक्षा के दौरान नियमों के पालन पर आप प्रदेशवासियों को सख्त चेतावनी दे रहे थे, आज क्या हुआ?” Also Read - केजरीवाल सरकार के खिलाफ BJP का धरना, दिल्ली सरकार से मांगा विज्ञापनों पर खर्च का हिसाब

उन्होंने आगे कहा प्रदेश में आमजन के लिए इस लॉकडाउन में शादी समारोह हो या गमी हो, संख्या तय है. सभी आमजन नियमों का पालन भी कर रहे हैं, नियमों के उल्लंघन पर उन पर तुरंत कार्रवाई भी हो रही है. वहीं, आपके भाजपा कार्यालय में लॉकडाउन में आपकी व अन्य जिम्मेदार भाजपा नेताओं की उपस्थिति में एक भीड़ भरा कार्यक्रम आयोजित होता है, नियमों का जमकर मखौल उड़ता है, सोशल डिस्टेंसिंग का जरा भी पालन नहीं होता है. इसके पूर्व भी ऐसा कई बार हो चुका है. Also Read - लॉकडाउन नहीं बढ़ा; वर्क फ्रॉम होम रहेगा या नहीं, ऑफिस-स्कूल-कॉलेज खोलने के लिए क्या हैं नियम, 20 पॉइंट्स में जानें

उन्होंने सवाल किया, “क्या मोदी जी के लॉकडाउन के नियम सिर्फ गरीबों, आमजन के लिए हैं? आपकी पार्टी के नेताओं पर यह नियम लागू नहीं होते? क्या इसके दोषियों पर आमजन की तरह ही कार्रवाई होगी?”