नई दिल्लीः शुक्रवार को मध्य प्रदेश के पचमढ़ी में स्थित भारतीय सेना के कैंप से राइफल और कारतूस लेकर भागने वाले दो संदिग्धों की पहचान कर ली गई है. संदिग्धों को पकड़ने के लिए पुलिस ने शहर में सभी तरफ नाकाबंदी कर रखी है और छापेमारी की कार्रवाई भी की जा रही है. बताया जा रहा है कि संदिग्ध दो इंसास राइफल और 20 राउंड कारतूस लेकर फरार हो गए हैं.

संदिग्धों ने कैंप में घुसने के लिए आर्मी अफसर बनकर सेंध लगाई थी. प्राप्त जानकारी के अनुसार, दोनों संदिग्ध पिपरिया से टैक्सी लेकर पचमढ़ी आर्मी कैंप पहुंचे थे. इसके बाद राइफल चोरी करने के बाद टैक्सी से ही पिपरिया रेलवे स्टेशन तक आए थे. पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे के आधार पर संदिग्धों की पहचान कर ली है. दोनों संदिग्ध एक होटल के सीसीटीवी कैमरे में कैद हुए जब वे होटल से बाहर निकल रहे थे.

एसपी होशंगाबाद एमएल छारी ने बताया घटना की जानकारी देते हुए कहा कि पचमढ़ी के आर्मी कैंप में गुरुवार और शुक्रवार की रात को दो संदिग्ध कार से पहुंचे. काले ट्रैक सूट और कैप लगाए संदिग्ध ने आर्मी कैंप के संतरी से खुद को आर्मी अफसर बताकर प्रवेश किया. इसके बाद वहां रखी राइफल और कारतूस चुराकर ले गए. राइफल चोरी होने की घटना के बाद पुलिस ने पूरे इलाके में अलर्ट जारी किया और तुरंत जांच में जुट गई.

फिलहाल अभी पुलिस ने उस टैक्सी ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है जो उन दोनों संदिग्धों को आर्मी कैंप तक लेकर आया था और फिर उन्हें पिपरिया स्टेशन तक छोड़ा था. पुलिस को आशंका है कि दोनों संदिग्ध श्रीधाम एक्स्प्रेस से जबलपुर भाग गए हैं.