इंदौर: मध्‍य प्रदेश के इंदौर शहर में बुधवार को नगर निगम की टीम के साथ विवाद के दौरान बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय ने अफसरों क्रिकेट बैट से पीट दिया. इसके बाद उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया. इसके बाद पुलिस ने बीजेपी एमएलए विजयवर्गीय को अरेस्‍ट कर लिया. पुलिस उनकी गिरफ्तारी के भारी इंतजाम किए थे. इस दौरान उनके समर्थकों की भारी भीड़ जमा थी. पुलिस आकाश को लेकर एमजी रोड पुलिस जिला कोर्ट लेकर पहुंची. बता दें कि बीजेपी विधायक बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं. Also Read - संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा- हरियाणा सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने को BJP-JJP विधायकों पर डालें दबाव

Also Read - WB Election 2021: ब्रिगेड परेड ग्राउंड में PM Modi की मेगा रैली आज, Mithun Chakraborty भी होंगे शामिल

जानकारी के मुताबिक नगर निगम की टीम गंजी कंपाउंड क्षेत्र में एक जर्जर मकान को ढहाने पहुंची थी. रहवासियों ने इसका विरोध शुरू कर दिया. उनके बुलाने पर बीजेपी विधायक विजयवर्गीय भी वहां पहुंच गए और नगर निगम की टीम को चेताया कि वह लौट जाए. Also Read - क्या उत्तराखंड में सीएम को बदला जाएगा? बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कही ये बात

बीजेपी विधायक विजयवर्गीय ने नगरनिगम के अधिकारियों को डांटा तो उनके बीच बहस हो गई और इसके बाद उन्‍होंने बैट लेकर अधिकारियों को पीटना शुरू कर दिया. गुस्‍साए विधायक ने बैट से अधिकारियों की पिटाई कर दी. उनके समर्थकों ने भी हाथ चलाए. पुलिस ने पहुंचकर बीच बचाव कर विधायक को शांत कराया. न‍गर निगम के अमले की ओर से विधायक के खिलाफ एफआई दर्ज कराई गई है. वहीं बीजेपी विधायक का कहना था कि इस बात से नाराज हो गए क्‍योंकि नगरनिगम अमले के अधिकारियों ने महिलाओं से दुर्व्‍यवहार किया है.

VIDEO: BJP के राष्‍ट्रीय महासचिव के विधायक बेटे ने सरकारी कर्मचारियों की ऐसी की पिटाई

आकाश विजयवर्गीय ने घटना के बाद कहा, “नगर निगम के कर्मचारी और अधिकारी महिलाओं से अभद्रता कर रहे थे, जिस पर मुझे गुस्सा आ गया. गुस्से में क्या किया और क्या कहा, मुझे याद नहीं है.” इस घटना के बाद विजयवर्गीय अपने समर्थकों के साथ एमजी रोड पुलिस थाने पहुंच गए. मामले की जानकारी मिलने पर स्थानीय बीजेपी नेता भी पुलिस थाने पहुंच गए. इस बीच, अपने सहकर्मी से बीजेपी विधायक की मारपीट से गुस्साए नगर निगम कर्मचारियों ने निगम परिसर में काम बंद कर विरोध प्रदर्शन किया.

(इनपुट: एजेंसी)