Corona Virus in Madhya Pradesh: मध्य प्रदेश के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि दूसरे राज्यों से लौटे मजदूर बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित हैं, इसीलिए राज्य में नियंत्रित हो रहे कोरोना के मामले अब बढ़ गए हैं. डॉ. मिश्रा ने प्रेस वार्ता में राज्य सरकार द्वारा कोरोना महामारी से निपटने के लिए किए गए इंतजामों का ब्यौरा दिया. बता दें कि मध्य प्रदेश में भी अचानक कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी हुई है. मध्य प्रदेश में संक्रमितों की संख्या करीब साढ़े चार हज़ार हो गई है. जबकि देश में संक्रमितों का आंकड़ा 81 हज़ार पार कर गया है. Also Read - Lockdown 5.0: मध्य प्रदेश में 15 जून तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, 13 जून के बाद खोले जाएंगे स्कूल

स्वास्थ्य मंत्री ने राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या से जुड़े सवाल पर संवाददाताओं से कहा, “मध्य प्रदेश के बाहर से जो मजदूर आ रहे हैं, वे जब अपने जिले की सीमा पर पहुंचते हैं, तब उनकी सीमा के बाहर ही थर्मल स्क्रीनिंग कराई जाती है. इसके बावजूद ये मजदूर काफी संख्या में कोरोना संक्रमित पाए जा रहे हैं. इसलिए आपने देखा होगा कि नियंत्रित किया हुआ कोरोना एक बार फिर जंप लेता हुआ दिख रहा है.” Also Read - सीएम शिवराज का आदेश- एमपी में कोरोना से हुई हर मौत का होगा विश्लेषण, अब तक 334 की गई है जान

मजदूरों के लिए परिवहन साधनों के इंतजाम की चर्चा करते हुए डॉ. मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश देश का एक मात्र ऐसा प्रांत है जो दूसरे राज्यों के मजदूरों को भी उनके राज्य की सीमा के अंदर बसों से पहुंचा रहा है. बता दें कि सरकार की ओर से दावा किया जा रहा है कि प्रदेश में अब तक तीन लाख 12 हजार 509 श्रमिक वापस आ चुके हैं. सड़क परिवहन के माध्यम से 22 अप्रैल से 14 मई तक कुल दो लाख 26 हजार 803 श्रमिक वापस लाए गए. इनमें राजस्थान से 50 हजार 908, हरियाणा से 1329, गुजरात से एक लाख 29 हजार 431, उत्तर प्रदेश से 1936, महाराष्ट्र से 39 हजार 281, छत्तीसगढ़ से 3 हजार 865 और दमन व दीव से 53 श्रमिक लाए गए हैं. विशेष श्रमिक ट्रेनों से 86 हजार श्रमिक अपने घर लौटे हैं. Also Read - कोरोना: 24 घंटे में सबसे अधिक 7,965 मामले सामने आए, संक्रमितों की संख्या 1 लाख 68 हज़ार पार