मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में स्वास्थ्य विभाग की एक 60 वर्षीय महिला कर्मचारी की कोरोना टीके की दूसरी खुराक लगने के कुछ घंटों बाद मौत हो गयी. जिला कलेक्टर ने अधिकारियों से महिला की मौत के सही कारणों का पता लगाने के निर्देश दिये हैं. Also Read - What To Eat Or Not Before Covid Vaccine: कोरोना वैक्सीनेशन से पहले और बाद में कैसी हो आपकी डाइट, यहां जानें सभी बातें

न्यूज एजेंसी भाषा के अनुसार, बड़वानी जिले की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमआचओ) अनीता सिंगारे ने बुधवार को बताया कि स्वास्थ्य विभाग की लिपिक रजनी सेन को मंगलवार दोपहर कोरोना टीके की दूसरी खुराक लगाई गई थी. इसके बाद रात में उनकी हालत बिगड़ गई और देर रात यहां एक निजी अस्पताल में उपचार के दौरान रजनी की मौत हो गई. Also Read - 18 बार घर बदलने के बाद भी पत्नी को नहीं छोड़ रहा कॉकरोच, पति ने मांगा तलाक, ऐसा कहीं सुना?

उन्होंने कहा कि महिला के शव का पोस्टमार्टम कर तीन दिन में रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी. इस बीच जिलाधिकारी शिवराज सिंह वर्मा ने कहा, ‘मुझे जानकारी मिली है कि महिला को मंगलवार को कोरोना का टीका लगाया गया था और देर रात उसकी मौत हो गई. सीएमएचओ ने मुझे सूचित किया कि संभवत: मृतक के मस्तिष्क में रक्तस्त्राव हुआ.’ उन्होंने कहा कि मौत का सही कारण पता लगाने के लिये शव का पोस्टमार्टम कराने का आदेश दिया गया है. Also Read - Covid Vaccine: भारत को मिली कोरोना की तीसरी वैक्सीन, रूसी 'Sputnik V' के इमरजेंसी इस्तेमाल को DCGI की हरी झंडी

वर्मा ने कहा, ‘कोरोना टीकाकरण अभियान पिछले डेढ़ महीने से चल रहा है. मुझे भी टीका लगाया गया है और मेरे विचार से यह टीका सुरक्षित है और इसके कोई दुष्प्रभाव नहीं हैं.’

(इनपुट: भाषा)