मुंबई: महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता ने मीडिया में आई उन खबरों के बाद शिवसेना को ‘पाखंडी’ बताकर निशाना साधा है जिनमें कहा गया कि औरंगाबाद में पार्टी क्षत्रप बाल ठाकरे का स्मारक बनाने के लिये करीब 1000 पेड़ों को गिराने की जरूरत होगी.

शिवसेना ने मुंबई के आरे कालोनी में पर्यावरण से जुड़ी चिंताओं का हवाला देकर मेट्रो कोच रखरखाव के लिए पेड़ों को काटने की इजाजत देने से इनकार कर दिया था और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री के तौर पर कार्यभार संभालने के बाद अपने पहले अहम फैसलों में से एक के तहत इसके काम पर रोक लगा दी थी. खबर की एक तस्वीर पोस्ट करते हुए अमृता फडणवीस ने ट्वीट किया कि पाखंड एक बीमारी है. जल्दी ठीक हो जाओ शिवसेना. पेड़ की कटाई- अपनी सुविधा से या सिर्फ तब जब आपको कमीशन मिले तब इजाजत देना- माफी योग्य अपराध नहीं है.

स्मारक के निर्माण के लिये कोई पेड़ न काटा जाए: घोडेले
औरंगाबाद के महापौर नंदकुमार घोडेले ने हालांकि मीडिया को जारी एक बयान में दावा किया कि प्रशासन ठाकरे स्मारक के लिये पेड़ों को काटने की इजाजत नहीं देगा. उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्चित करने जा रहे हैं कि स्मारक के निर्माण के लिये कोई पेड़ न काटा जाए. उनका संदेश शिवसेना कम्युनिकेशन @शिवसेना कॉम्स, ट्विटर हैंडल से जारी किया गया जो ठाकरे के नेतृत्व वाले दल के संचार प्रकोष्ठ का आधिकारिक ट्विटर हैंडल है. स्मारक में बाल ठाकरे की प्रतिमा के साथ एक बागीचा भी होगा.