मुंबई: महाराष्ट्र के विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के शनिवार के फैसले का स्वागत किया. शीर्ष कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि ‘फैसले से देश में लोकतंत्र मजबूत हुआ है.’ फडणवीस ने कहा, “इसे किसी की हार या जीत के तरह नहीं देखा जाना चाहिए. फैसले ने देश में लोकतंत्र को मजबूत किया है. शीर्ष कोर्ट के आदेश को मुंबई व महाराष्ट्र में जनता ने शांतिपूर्ण रूप से स्वीकार किया है. हम पूरे दिल से फैसले का स्वागत करते हैं.” उन्होंने राज्य के लोगों से फैसले का सम्मान करने और अपनी शांति व संयम की परंपरा को बनाए रखने और किसी भी तरीके से किसी समुदाय के भावनाओं नहीं आहत करने का आग्रह किया है.

Ayodhya Verdict: कोर्ट ने इस तर्ज पर लिया फैसला, कहा- 1856 से पहले दोनों धर्मों के लोग साथ रहते थे

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने फैसले का समर्थन किया और आशा जताई कि सभी राजनीतिक दल व धार्मिक संगठन फैसले का सम्मान करेंगे. राकांपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक ने फैसले को ऐतिहासिक बताया और कहा कि अब अयोध्या के विवाद पर विराम लग गया.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला हमारे लिए दिवाली और होली जैसा: मारे गये कारसेवकों के परिजनों ने कहा

कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने इसे ‘महत्वपूर्ण दिन’ बताया और कहा कि ‘कारसेवकों’ की कुर्बानी आखिरकार सार्थक हो गई. राज ठाकरे ने कहा, “मेरी सोच बालासाहेब ठाकरे की तरह है, क्योंकि वह इस ऐतिहासिक दिन को देखकर खुश हुए होंगे. हम तेजी से राम मंदिर के निर्माण को देखने को उत्सुक हैं.”

पीएम मोदी ने देश को किया संबोधित, बोले- 9 नवंबर को गिराई गई थी बर्लिन की दीवार, कटुता को दें तिलांजलि

फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए महाराष्ट्र से एआईसीसी के सचिव संजय दत्त ने कहा, “हम सभी फैसले का सम्मान करें और शांति, सौहार्द व भाईचारे का बनाए रखें. एक बार फिर दुनिया को दिखाने का समय आ गया है कि भारत एक है और विविधता में एकता हमारी शक्ति है.”

(इनपुट-आईएएनएस)