नई दिल्‍ली: महाराष्‍ट्र में बीजेपी- शिवसेना के बीच मुख्‍यमंत्री पद को लेकर सरकार बनाने के लिए खींचतान जारी है. राज्‍य में सरकार बनाने के सिलसिले में जहां बीजेपी नेताओं का एक प्रतिनिधि मंडल गुरुवार को राज्‍यपाल से मिलने वाला है, वहीं, शिवसेना ने आज एक बार फिर से साफ कर दिया कि मुख्‍यमंत्री शिवसेना से ही होगा. पार्टी सुप्रीमो उद्धव ठाकरे आज अपनी पार्टी के विधायकों के साथ बैठक करने वाले हैं. वहीं, बीजेपी नेता सुधीर मुनंगट्टीवार ने कहा कि महाराष्‍ट्र में जल्‍द ही सरकार बनेगी और महायुति की ही सरकार बनेगी.

शिवसेना विधायकों के टूटने और उन्‍हें किसी फाइव स्‍टार होटल में शिफ्ट करने संबंधी आ रही खबरों का खंडन पार्टी के नेता व प्रवक्‍ता संजय राउत ने किया है. राउत ने कहा, हमें ऐसा करने की कोई जरूरत नहीं है, हमारे एमएलए वचन के पक्‍के और पार्टी के प्रति समर्पित है. जो लोग ऐसी अफवाहें फैला रहे हैं, उन्‍हें अपने विधायकों के बारे में चिंतित होना चाहिए. राउत ने कहा, मुख्‍यमंत्री शिवसेना से ही होगा.

शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के बीच अब तक कोई बातचीत नहीं हुई है. राउत ने ठाकरे की शिवसेना विधायकों के साथ बैठक से पूर्व संवाददाताओं से कहा कि उनकी पार्टी और विपक्षी कांग्रेस एवं राकांपा के विधायक पाला नहीं बदलेंगे.

यह पूछे जाने पर कि राज्य में सरकार गठन को लेकर बने गतिरोध के बीच क्या उनके विचार पार्टी के विचारों का प्रतिनिधित्व करते हैं, उन्होंने कहा, मैंने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के विचारों को सामने रखा.

पोर्टफोलियो के समान आवंटन और मुख्यमंत्री पद साझा करने की शिवसेना की मांग को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच गतिरोध बना हुआ है. भाजपा ने ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद साझा करने की शिवसेना की मांग खारिज कर दी है.

मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को समाप्त होगा. दोनों दलों के सूत्रों ने बुधवार को कहा था कि दोनों दलों के बीच पीछे के दरवाजे से बातचीत चल रही है और सफलता मिलने की उम्मीद है. (इनपुट: एजेंसी)