नई दिल्ली: 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी और अन्य पार्टियों ने तैयारियां तेज कर दी हैं. महाराष्ट्र में बीजेपी शिवसेना के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ना चाहती है. बीजेपी 50:50 प्रतिशत सीटों के बंटवारे के समीकरण पर राजी हो गई है. हमारे सहयोगी डीएनए की खबर के मुताबिक लोकसभा और विधानसभा चुनाव में बीजेपी शिवसेना के साथ इसी समीकरण के तहत गठबंधन करना चाहती है. महाराष्ट्र के साथ पूरे देश में विपक्ष गठबंधन के साथ चुनाव में उतरने की तैयारी कर रहा है ऐसे में बीजेपी किसी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहती है. Also Read - यूपी: बीजेपी नेता की मौत, कार में मिली गोली लगी लाश, तमंचा और शराब की बोतल भी मिली

Also Read - UP Panchayat Chunav: कुलदीप सेंगर की बेटी ने मां का टिकट कैंसिल होने पर भावुक वीडियो शेयर कर उठाए सवाल

राम मंदिर मसले से पीछे हटने का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कट्टरपंथी मुस्लिमों का है दबाव: वसीम रिजवी Also Read - Maharashtra Lockdown: महाराष्ट्र में लॉकडाउन जैसी पाबंदियों के बीच देवेंद्र फडणवीस ने की यह मांग...

बीजेपी की तरफ से यह प्रपोजल ऐसे समय में आया है जब शिवसनेा कई मौकों पर पहले ही अकेले लड़ने की बात कहती रही है. बीजेपी के एक सीनियर नेता ने नाम न छापने की शर्त पर डीएनए को बताया, बीजेपी शिवसेना के साथ गठबंधन के लिए तैयार है. बीजेपी के नेता का कहना है कि गठबंधन के लिए पार्टी एक बार फिर शिवसेना से बात करेगी. सीटों के बंटवारे के मुद्दे पर बीजेपी समझौता करने के लिए तैयार है. बीजेपी का लक्ष्य महाराष्ट्र की ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने का है. बीजेपी के मंत्री का कहना है कि लोकसभा चुनाव में अगर बीजेपी और शिवसेना साथ आए तो विधानसभा चुनाव में दोनों पार्टियां 50-50 प्रतिशत सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. मंत्री का कहना है कि हमारी पहली प्राथमिकता लोकसभा चुनाव है.

जान बचाने के लिए राहुल ने एयर ऐम्बुलेंस को पहले कराया टेक ऑफ, खुद किया 30 मिनट इंतजार

वहीं दूसरी ओर लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने की तैयारी कर रही शिवसेना ग्राउंड रियालटी जानने के लिए कई लेवल पर मीटिंग कर रही है. मंगलवार को शिवसेना प्रमुख उधव ठाकरे ने पार्टी के सांसदों, विधायकों, कार्यकर्ताओं के साथ मैराथन मीटिंग की. शिवसेना के एक सांसद ने बताया कि जनवरी में शिवसेना की नेशनल एग्जीक्यूटिव की मींटिग होनी है. इस मीटिंग में शिवसेना के अकेले लड़ने पर अंतिम फैसला होगा. बीजेपी को विस्तृत प्रपोजल के साथ आने दीजिए. शिवसेना प्रमुख उधव ठाकरे पार्टी के हित में जो होगा उसके अनुसार फैसला लेंगे.

5 एक्टिविस्ट की गिरफ्तारी: रामचंद्र गुहा बोले- आज गांधी होते तो मोदी सरकार उन्हें भी गिरफ्तार कर चुकी होती

गौरतलब है कि शिवसेना केंद्र और राज्य में बीजेपी के साथ सरकार में शामिल है. समय-समय पर वह बीजेपी पर तीखे हमले बोलती रहती है लेकिन जहां तक सरकार से निकलने की बात है तो वह इस मुद्दे पर चुप्पी साध लेती है. ऐसे में इस बात की संभावना जरूर है कि वह लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी के साथ गठबंधन कर ले. हालांकि पार्टी ने कई मौकों पर साफ किया है कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव में अकेले लड़ेगी. हालांकि राजनीति में सबकुछ संभव है. यहां रातों रात समीकरण बदलते हैं. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि शिवसेना बीजेपी के इस प्रपोजल पर क्या फैसला करती है.