मुंबई: महाराष्‍ट्र की राजधानी मुंबई में छह दिन में बॉलीवुड के दूसरे सेक्‍स रैकेट का खुलासा हुआ है. पुलिस ने बुधवार सेक्स रैकट से कथित तौर पर जुड़े बॉलीवुड के एक कास्टिंग निर्देशक को गिरफ्तार किया है. पिछले कुछ महीनों से यह रैकट चल रहा था और कई मॉडल व बॉलीवुड के कलाकार इसमें शामिल हैं. कास्टिंग डायरेक्‍टर एक मेकअप कलाकार और जूनियर आर्टिस्‍ट का 60-60 हजार रुपए में सौदा कर रहा था. इस रैकट में कई मॉडल व बॉलीवुड के आर्टिस्‍ट शामिल हैं.

बॉलीवुड एक्‍ट्रेस और मॉडल हुईं थी गिरफ्तार
मुंबई उपनगरीय वर्सोवा से कास्टिंग निर्देशक गिरफ्तार करके एक मेकअप कलाकार और जूनियर कलाकार को बचाया. बता दें कि इससे पहले बीती 9 जनवरी को पुलिस ने सेक्‍स रैकेट का खुलासा करते हुए एक एक्‍ट्रेस/ मॉडल को गिरफ्तार किया था.

सेक्‍स रैकेट में कई मॉडल व बॉलीवुड के कलाकार शामिल
एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि एक पुख्ता सूचना पर सामाजिक सेवा शाखा ने मंगलवार को 32 वर्षीय नवील प्रेमलाल आर्य को
गिरफ्तार किया. वह दो पीड़ितों का 60-60 हजार रुपए में सौदा कर रहा था. आरोपी से पूछताछ में पुलिस को पता चला कि पिछले कुछ महीनों से यह रैकट चल रहा था और कई मॉडल व बॉलीवुड के कलाकार इसमें शामिल हैं.

मुंबई के सेक्‍स रैकेट के तार दिल्‍ली से जुड़े
सामाजिक सेवा शाखा के वरिष्ठ निरीक्षक संदेश येओले ने बताया कि बचाई गई दोनों महिलाएं पश्चिम बंगाल की हैं. वे दिल्ली में
इस रैकेट से जुड़े दलाल अश्विन कुमार के संपर्क में थी, जिसने उन्हें मुंबई भेजा था. वरिष्ठ निरीक्षक ने बताया कि इस मामले में आर्य के दो और सहयोगी वांछित हैं. मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच जारी है.

5 सितारा होटल में सेक्‍स रैकेट का हुआ था भंडाफोड़
मुंबई के गोरेगांव के एक पांच-सितारा होटल में चल रहे देह व्यापार रैकेट का पुलिस ने भंडाफोड़ कर एक बॉलीवुड एक्‍ट्रेस और मॉडल को बीते 9 जनवरी को गिरफ्तार किया था. पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) डी एस स्वामी के नेतृत्व में एक पुलिस की टीम ने बृहस्पतिवार रात को होटल में छापेमारी की थी. उन्होंने बताया था कि बालीवुड अभिनेत्री अमृता धनोआ(32) और मॉडल ऋचा सिंह को बड़े-बड़े होटलों में देह व्यापार के लिए लड़कियां भेजने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

ग्राहक बनकर पुलिस टीम ने किया था खुलासा
योजना के तहत ग्राहकों के रूप में पुलिस टीम के सदस्यों को होटल में भेजा गया था, जहां वे लड़कियां भेजने वालों से मिले थे. उसके बाद पुलिस ने छापेमारी की जिसके दौरान दो महिलाओं को छुड़ाया था. पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 370 (3), धारा 34 और देह व्यापार (रोकथाम) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था.