बंबई उच्च न्यायालय में पत्रकार जींस और टी-शर्ट में अदालत की कार्यवाही को कवर करने पहुंचे। कोर्ट ने इस पर नाराजगी दिखाई और सवाल किया क्या यह बंबई की संस्कृति है? मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति मंजूला चेल्लुर और न्यायमूर्ति जी एस कुलकर्णी की पीठ ने डॉक्टरों के काम पर नहीं आने को चुनौती देने वाली एक याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। Also Read - Sushant Singh Rajput death case: सुशांत सिंह मौत मामले की कवरेज पर हाई कोर्ट सख्त, कहा- कानून का उल्लंघन है ‘मीडिया ट्रायल’

मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति मंजूला चेल्लुर और न्यायमूर्ति जी एस कुलकर्णी की पीठ ने डॉक्टरों के काम पर नहीं आने को चुनौती देने वाली एक याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। पीठ ने एक राष्ट्रीय अखबार के संवाददाता को जींस एवं टीशर्ट में देखने पर जानना चाहा कि क्या उनके लिए कोई परिधान संहिता नहीं है। Also Read - BMC ने HC से कहा- सोनू सूद एक 'आदतन अपराधी' हैं, एक्टर ने शरद पवार से की मुलाकात

न्यायूर्ति चेल्लुर ने उनकी तरफ इशारा करते हुए कहा कि पत्रकारों को अदालत में शिष्टता कायम रखनी चाहिए और सवाल किया क्या यह बंबई की संस्कृति का हिस्सा है। उन्होंने कहा, ‘‘कैसे पत्रकार जींस और टी-शर्ट पहनकर अदलात में जा जाते हैं?’’ वैसे अदालत ने इस संबंध में कोई निर्देश जारी नहीं किया। Also Read - Bungalow Demolition Case: कंगना रनौत ने सुप्रीम कोर्ट में BMC की चुनौती के खिलाफ दायर की कैव‍ियट