मुंबई: बंबई हाईकोर्ट के दूसरे सबसे सीनियर न्‍यायाधीश जस्टिस सत्यरंजन धर्माधिकारी ने यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया है कि वह अपने निजी और पारिवारिक कारणों से नहीं चाहते कि उनका महाराष्ट्र से बाहर स्थानांतरण हो.

न्यायमूर्ति धर्माधिकारी ने शुक्रवार को संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि कि उन्होंने इस्तीफा दे दिया है क्योंकि उन्हें किसी अन्य राज्य के हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया गया था, हालांकि वह मुंबई नहीं छोड़ना चाहते थे.

न्यायमूर्ति धर्माधिकारी ने मीडियाकर्मियों से कहा, ”मैंने पूरी तरह से व्यक्तिगत और पारिवारिक मुद्दों के कारण इस्तीफा दिया … मैं मुंबई नहीं छोड़ना चाहता था और वे मुझे मुंबई हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में प्रोन्नति देने के लिए तैयार नहीं थे.”

न्यायाधीश ने कहा कि उन्होंने गुरुवार शाम अपना इस्तीफा राष्ट्रपति को भेज दिया. यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि उनका इस्तीफा स्वीकार हुआ है या नहीं लेकिन न्यायमूर्ति धर्माधिकारी ने शुक्रवार को अदालत में वकीलों से कहा कि यह कार्यालय में उनका आखिरी दिन है और वह 17 फरवरी (सोमवार) से उपलब्ध नहीं रहेंगे.

जस्टिस धर्माधिकारी दो साल बाद सेवानिवृत्त होने वाले थे. न्यायाधीश ने कहा, “मुंबई में मेरी कुछ व्यक्तिगत जिम्मेदारियां हैं, यही वजह है कि मैं महाराष्ट्र से बाहर स्थानांतरण नहीं चाहता था.”

इससे पहले सुबह जब अधिवक्ता मैथ्यु नेदमपारा ने एक याचिका पर तत्काल सुनवाई के लिए अदालत से अगले हफ्ते की तारीख मांगी तब न्यायाधीश ने इस्तीफा देने संबंधी घोषणा की.

न्यायमूर्ति धर्माधिकारी ने अदालत में कहा, मैंने इस्तीफा दे दिया है, आज यहां मेरा अंतिम दिन है.

अधिवक्ता नेदमपारा ने बाद में कहा, ”जब न्यायाधीश ने कहा कि उन्होंने इस्तीफा दे दिया है तो शुरुआत में मुझे लगा कि ऐसा उन्होंने हल्के-फुल्के अंदाज में कहा है. वह एक वरिष्ठ न्यायाधीश हैं और इस्तीफा देने की उनकी बात सुनकर धक्का सा लगा.”

जस्टिस धर्माधिकारी को 14 नवंबर 2003 को बंबई हाईकोर्ट का न्यायाधीश नियुक्त किया गया था और वह 2022 में अवकाशग्रहण करने वाले थे.