मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को अकादमिक वर्ष (शैक्षणिक वर्ष) की ऑनलाइन शुरुआत करने की मंजूरी दे दी है. इसके अलावा उन्होंने स्कूलों को फिर से खोलने के लिए खास दिशानिर्देश (SoP) जारी किए हैं. सभी स्कूलों को फिजिकल क्लासेस शुरू करते समय इन नियमों का पालन करना होगा. Also Read - UP: कानपुर एनकाउंटर में बड़ी कार्रवाई, चौबेपुर थाने के सभी 68 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक सीएम ने उन शहरों से दूर के इलाकों में स्कूलों को फिर से खोलने पर भी सहमति जताई है जो पर्याप्त एहतियात बरतने के बाद पूरी तरह से कोविद -19 मुक्त हैं. यह फैसला सोमवार को ठाकरे और स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ और अन्य अधिकारियों के बीच एक वीडियो-कॉन्फ्रेंस बैठक में लिया गया. Also Read - यूपी: STF के डीआईजी अनंत देव का ट्रांसफर, 8 पुलिस वालों की जान लेने वाले विकास दुबे के करीबियों के साथ तस्वीरें हुई थीं वायरल

सराकर द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों के मुताबिक, प्री-प्राइमरी सेक्शन और क्लासेस I और II के लिए ऑनलाइन टीचिंग की अनुमति नहीं दी जाएगी. हालांकि, छात्रों को टेलीविजन और रेडियो पर एजुकेशनल कंटेंट प्रोवाइड किया जा सकता है. SOP के मुताबिक कक्षा III से V के लिए ऑनलाइन टीचिंग अधिकतम एक घंटे, कक्षा VI से VIII के लिए दो घंटे और कक्षा IX के छात्रों के लिए तीन घंटे होगी. Also Read - Lockdown in West Bengal: पश्चिम बंगाल में 9 जुलाई से फिर लागू होगा सख्त लॉकडाउन, केवल ग्रीन जोन में मिलेगी छूट

राज्य सराकर ने कहा है कि उस गांव में स्कूल को फिर से खोला जा सकता है, जहां कम से कम एक महीने से कोई कोरोना का मामला नहीं आया है. सीएम ठाकरे ने कहा कि सरकार का उद्देश्य स्कूल शुरू करने से ज्यादा शिक्षा को फिर से शुरू करने का है. उद्धव सरकार के नए फैसले के अनुसार, जिन इलाकों में स्कूल खोले जाने हैं, वहां स्कूल कैंपल में डिस्टेंसिंग और बच्चों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखना होगा.

सरकार ने संकेत दिए हैं कि प्रबंधन समितियों से अनुमोदन के बाद कक्षा IX, X और XII तक के स्कूल जुलाई में, छठी से आठवीं कक्षा के स्कूल अगस्त, कक्षा तीन से पांच तक के स्कूल सितंबर और कक्षा एक से तीन तक के स्कूल को फिर से खोला जा सकता हैं. 11वीं कक्षा तक के स्कूल खोलने के लिए दसवीं कक्षा के परिणाम की घोषणा के बाद तारीख तय की जाएगी.