नई दिल्ली: महाराष्ट्र सरकार ने मंगलवार को कहा है कि लोग अपनी जिम्मेदारी सही से नहीं निभा रहे हैं इसलिए सरकार लॉकडाउन में दी गई छूट को वापस ले रही है. महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया कि महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई और पुणे क्षेत्रों के लिए लॉकडाउन में दी गई छूट वापस ले ली है. बयान में कहा गया, “लोग जिम्मेदारी से व्यवहार नहीं कर रहे हैं. इसलिए मुंबई और पुणे क्षेत्रों के दी गई छूट को वापस लिया जाता है. हालांकि राज्य के बाकी हिस्सों में आंशिक छूट जारी रहेगी.” Also Read - Air India Booking: जिन लोगों की फ्लाइट हुई रद्द वो 24 अगस्त तक दोबारा ले सकते हैं टिकट, नहीं देना होगा एक्स्ट्रा चार्ज: एयर इंडिया

महाराष्ट्र सरकार ने अपने बयान में कहा कि 17 अप्रैल को लॉकडाउन में छूट दिए जाने के एक आदेश के बाद से बड़ी संख्या में लोग बाहर निकल रहे हैं जिससे महामारी फैलने का खतरा बढ़ गया है. इसलिए अब मुंबई महानगर क्षेत्र (MMR) और पुणे महानगर क्षेत्र (PMR) क्षेत्र में चिंता को देखते हुए 17 अप्रैल 2020 को जारी किए गए आदेश लागू नहीं होंगे. Also Read - प्रवासी मजदूरों की समस्याओं पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, 28 मई को सुनवाई

इससे पहले महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के घरों तक वितरण पर रोक लगाने के पिछले सप्ताह के अपने दिशानिर्देशों में मंगलवार को संशोधन किया और कहा कि यह रोक केवल मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) और पुणे में लागू होगी. दोनों नगर कोविड-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों में (हॉटस्पॉट) में हैं. Also Read - देश में 60,490 कोरोना मरीज ठीक हुए, रिकवरी रेट में सुधार जारी; मृत्यु दर 3.3% से घटकर 2.87% हुई: स्वास्थ्य मंत्रालय

सरकार ने 18 अप्रैल की अपनी अधिसूचना में राज्य भर में अखबारों और पत्रिकाओं के घरों तक वितरण पर रोक लगा दी थी. हालांकि उसमें कहा गया था कि प्रिंट मीडिया को 20 अप्रैल से लॉकडाउन प्रावधानों में छूट दी गई है. सरकार के आदेश में कहा गया है कि घरों तक समाचार पत्रों या पत्रिकाओं का वितरण करने वाला मास्क पहनेंगे, सेनेटाइजर का इस्तेमाल करेंगे और सामाजिक दूरी संबंधी नियमों का पालन करेंगे.

इसमें कहा गया है कि एमएमआर और पुणे शहर और अन्य सभी निरूद्ध क्षेत्रों में कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए वहां अखबारों के लोगों के घरों तक वितरण पर प्रतिबंध लगाया गया है.

(इनपुट एजेंसी)