मुंबई: महाराष्ट्र में कोरोना पाजिटिव मरीजों की संख्या एक लाख के पार पहुंच गई है. भारत में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे के दौरान 3493 नए केस सामने आए हैं. इसी के साथ राज्य में कोरोना मरीजों की संथ्या 101141 हो गई है. Also Read - इशांत शर्मा ने कहा- 2013 के बाद महेंद्र सिंह धोनी को अच्छे से समझ पाया था

महाराष्ट्र देश का पहला राज्य है जहां कोरोना मरीजों के आंकड़े ने एक लाख की सीमा पार की है. पिछले 24 घंटे के दौरान महाराष्ट्र में कोरोना से 127 मौतें हुई है. Also Read - देश में कोरोना के करीब 21 हजार नए केस, आंकड़ा 6.25 लाख के पार, 18 हजार से ज्‍यादा मौतें

महाराष्ट्र में कोरोना से मरने वालों की संख्या अब 3717 हो गई है. महाराष्ट्र में आज 1718 मरीजों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया. महाराष्ट्र में अब तक 47796 मरीज ठीक होकर डिस्चार्ज किए जा चुके हैं.

इससे पहले दिन में महाराष्ट्र सरकार द्वारा राज्य में लॉकडाउन पाबंदियों में ढील वापस लेने की योजना बनाने की खबरों के बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है. ठाकरे ने कहा कि मीडिया की कुछ खबरें लोगों के मन में भ्रम उत्पन्न कर रही हैं. उन्होंने कहा कि सरकार अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए लॉकडाउन की पाबंदियों में चरणबद्ध तरीके से ढील दे रही है.

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘कुछ टीवी समाचार चैनल और सोशल मीडिया प्लेटफार्म लॉकडाउन फिर से लगाये जाने और दुकानें फिर से बंद करने की बात कर रहे हैं. हालांकि सरकार ने ऐसा कोई निर्णय नहीं किया है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसी खबरों से लोगों के मन में भ्रम उत्पन्न होता है और इनका प्रसारण सत्यापन के बिना नहीं किया जाना चाहिए. ऐसी पोस्ट को फारवर्ड करने और ऐसी खबरों के प्रसारण से भ्रम की स्थिति उत्पन्न होती है और अफवाह फैलती है, जो कि एक अपराध है.

उन्होंने कहा, ‘‘हम अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए लॉकडाउन पाबंदियों में चरणों में ढील दे रहे हैं. हालांकि पाबंदियां हटाने का यह मतलब नहीं कि बिना वजह के भीड़ एकत्रित हो और एकदूसरे से दूरी बनाये रखने और स्वच्छता के नियम का उल्लंघन किया जाए.’’ केंद्र द्वारा ‘‘अनलॉक 1’’ के तहत महत्वपूर्ण छूट की घोषणा करने के एक दिन बाद, महाराष्ट्र सरकार ने 30 जून तक लॉकडाउन को बढ़ा दिया था, लेकिन ‘‘मिशन स्टार्ट अगेन’’ के तहत कई छूट की घोषणा की थी और चरणबद्ध तरीके से गतिविधियां और कामकाज शुरू करने की घोषणा की थी.

राज्य में मॉल को छोड़कर गैर निषिद्ध क्षेत्रों में सभी बाजार और दुकानों को पांच जून से सम विषम आधार पर फिर से खोलने की अनुमति दी गई थी. इसके तहत यह भी इजाजत दी गई थी कि आठ जून से आवश्यकता अनुसार निजी कार्यालय 10 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ खोले जा सकते हैं.