अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के साथ तीन अवकाश प्राप्त नौकरशाह जयश्री दत्तात्रेय रहाते, दीपक नटवरलाल और ललिता लक्ष्मणन को एक विशेष अदालत ने फर्जी पासपोर्ट रखने के मामले में आज दोषी करार दिया. विशेष न्यायाधीश विरेन्द्र कुमार गोयल ने छोटा राजन को भारतीय दंड संहिता के तहत सुरक्षा के दृष्टिकोण से मूल्यवान वस्तु की फर्जी प्रतिलिपि तैयार करने का दोषी ठहराया. इसके लिए अधिकतम उम्रकैद की सजा सुनायी जा सकती है.

कोर्ट के फैसले के बाद तीनों जमानत पर बाहर जयश्री दत्तात्रेय रहाते, दीपक नटवरलाल और ललिता लक्ष्मणन को हिरासत में ले लिया गया. वहीं अब इस मामले पर अदालत कल दोषियों को दी जाने वाली सजा की अवधि पर दलीलें सुनेगा.

छोटा राजन दिल्ली के तिहाड़ जेल में हैं. जहां उसे कड़ी सुरक्षा के बीच रखा गया है. बता दें 55 वर्षीय गैंगस्टर राजन को अक्तूबर, 2015 में बाली से प्रत्यर्पण के रास्ते भारत लाया गया था. जिसके बाद से राजन पुलिस के हिरासत में हैं.

गौरतलब हो कि छोटा राजन का पूरा नाम राजन सदाशिव निखालजे है. राजन ने मुंबई से अपने दहशत की शुरुवात की थी. छोटा राजन पर मुंबई में कई हत्या और फिरौती और वसूली का मामला दर्ज है. मुंबई में एक दौर वो भी था जब छोटा राजन अंडरवर्ल्ड दाऊद इब्राहीम के साथ काम करता था. लेकिन दोनों कि दोस्ती में तब दरार पड़ गई जब दाउद ने मुंबई सीरियल बम ब्लास्ट की घटना को 1993 में अंजाम दिया था.