नई दिल्‍ली: महाराष्‍ट्र में चल रहे सियासी घटनाक्रम के बीच सोमवार को सुबह कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी के घर पर बैठक हुई है, वहीं, एनसीपी ने अपने पास 52 विधायक होने का दावा किया है. वहीं, कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना की संयुक्‍त याचिका पर आज इस मामले पर सुनवाई होने वाली है. वहीं, विद्रोही तेवर दिखा चुके भतीजे को एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार अभी भी मनाने में लगे हुए हैं. सुबह एनसीपी के सीनियर नेता छगन भुजबल अजित पवार से मुलाकात कर रहे हैं.

एनसीपी प्रवक्‍ता नवाब मलिक ने दावा किया है कि दो और एनसीपी विधायक मुंबई लौट आए हैं, 53 विधायक हमारे साथ हैं. वहींं, दिल्ली में कांग्रेस संसदीय रणनीति समूह की बैठक के लिए पार्टी अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के आधिकारिक निवास पर सीनियर नेता अधीर रंजन चौधरी, गुलाम नबी आज़ाद, केसी वेणुगोपाल और कांग्रेस पार्टी के अन्य नेता 10 जनपथ पहुंचे.

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा, हमारे पास 165 विधायकों का समर्थन है. एनसीपी के 53 विधायक हमारे साथ हैं. अजीत पवार ने गलती की है, उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए.  देवेंद्र फडणवीस को महसूस करना चाहिए कि उनके पास बहुमत नहीं है. उन्‍हें एहसास होना चाहिए कि उन्‍होंने गलती की है. यदि वह इस्तीफा नहीं देते हैं, तो हम निश्चित रूप से सरकार को सदन के पटल पर पराजित करेंगे.

पार्टी के संसदीय रणनीति समूह की बैठक के बाद के सुरेश, कांग्रेस: ​​हम महाराष्ट्र के मुद्दे को गंभीरता से लेंगे. हम दोनों सदनों में कार्यवाही को रोक देंगे. सरकार अरुणाचल से गोवा, अब कर्नाटक और फिर महाराष्ट्र तक लोकतंत्र की हत्या कर रही है. हमने पहले से ही समान विचारधारा वाले दलों के साथ चर्चा की है.

एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार विद्रोह कर चुके भतीजे अजीत पवार को अभी भी छोड़ना नहीं चाह रहे हैं. वह पार्टी के कई नेताओं को अजित पवार को मनाने के लिए भेज चुके हैं. इसी क्रम में आज सुबह पार्टी के सीनियर नेता छगन भुजबल भी अजित पवार के निवास पर उनसे बात करने पहुंचे हैं.

बता दें कि बीजेपी से हाथ मिलाकर महाराष्‍ट्र के डिप्‍टी सीएम की शपथ ले चुके भतीजे ने एक दिन पहले रविवार ने कहा कि वह अब भी राकांपा के साथ हैं और शरद पवार उनके नेता बने रहेंगे. एनसीपी ने आज दावा किया है कि उसके साथ पार्टी के 53 विधायक हैं.

अजित ने शनिवार सुबह उप मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी और समझा जाता है कि उनका यह फैसला पार्टी प्रमुख शरद पवार को नागवार गुजरा है. भाजपा नेताओं के बधाई संदेश का शुक्रिया अदा करने के बाद सिलसिलेवार ट्वीट में अजित ने यह भी कहा, भाजपा- राकांपा गठबंधन महाराष्ट्र में अगले पांच साल में स्थायी सरकार देगा.

अजित पवार ने ट्वीट किया था, ”मैं राकांपा में हूं और हमेशा ही राकांपा में रहूंगा तथा (शरद) पवार साहेब हमारे नेता हैं. हमारा बीजेपी-एनसीपी गठबंधन महाराष्ट्र में अगले पांच साल एक स्थायी सरकार देगा जो राज्य और इसके लोगों के कल्याण के लिए गंभीरता से काम करेगा.” उन्होंने ट्वीट किया, ”चिंता करने की कोई बात नहीं है, सब ठीक है. हालांकि, कुछ संयम रखने की जरूरत है. आपके समर्थन के लिए आपका धन्यवाद.”