नासिकः महाराष्ट्र के नासिक स्थित सिविल अस्पताल में कोरोना वायरस जैसे लक्षणों वाले दो और व्यक्तियों को सोमवार को भर्ती कराया गया. वहीं इस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शहर में धारा 144 लगा दी गई है. अस्पताल सूत्रों के अनुसार, अस्पताल में भर्ती इन दो मामलों के साथ अस्पताल में वर्तमान में आठ मरीजों का इलाज चल रहा है. Also Read - कोरोनावायरस: बायो सूट के बाद अब DRDO ने विकसित की सैनेटाइज करने की नई तकनीक

इस बीच जिला कलेक्टर सूरज मंधारे ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अभी तक 23 संदिग्धों की कोरोना वायरस की जांच की गई है. उन्होंने कहा कि इनमें से 20 की रिपोर्ट निगेटिव आयी है जबकि बाकी की रिपोर्ट का इंतजार है. पुलिस ने शहर पुलिस कमिश्नरेट के क्षेत्राधिकार में आने वाले क्षेत्र में धारा 144 लगा दी है जिसके तहत लोगों के एक जगह एकत्रित होने पर रोक है. पुलिस उपायुक्त लक्ष्मीकांत पाटिल ने इस संबंध में एक अधिसूचना जारी की. Also Read - क्या यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं परीक्षा में सभी छात्र-छात्राओं को पास किया गया? जानें सच

इसके अलावा कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए अधिकारियों ने सोमवार को महाराष्ट्र के नागपुर में धारा 144 लगा दी. पुलिस ने कहा कि यह कदम कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने और लोगों की सुरक्षा के लिए उठाया गया है. इसके तहत लोगों के एक जगह पर एकत्रित होने पर रोक रहेगी. Also Read - लोगों के न आने से भूखों मरने की कगार पर जीबी रोड की सेक्स वर्कर, RSS ने पहुंचाया राशन

महाराष्ट्र में सोमवार को कोरोना वायरस के संक्रमण के दो नए मामले सामने आने के बाद संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 39 हो गयी। इन दो संक्रमित व्यक्तियों में से एक फिलीपीन का नागरिक है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने यह जानकारी दी.

आपको बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के अबतक 114 मामलों की पुष्टि हो चुकी है. स्वास्थ मंत्रालय ने सोमवार को इस बात की जानकारी दी. वहीं कोरोना का कहर अब भगवान के भक्तों भी डराने लगा है. मुंबई के मशहूर सिद्धिविनायक मंदिर को भी अगले नोटिस तक के लिए बंद कर दिया है.

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि पुणे जिले के पिंपरी-चिंचवाड़ में पांच नए मामले शनिवार देर रात सामने आए और औरंगाबाद में रविवार को एक नया मामला सामने आया. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के लिए मुंबई और पुणे में उपलब्ध परीक्षण और उपचार सुविधाओं को अगले 15-20 दिनों में बढ़ाया जाएगा.