मुंबई: महाराष्ट्र में शनिवार को कोरोना वायरस से संक्रमण के 811 नये मामले सामने आए. इसके साथ ही राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 7,628 तक पहुंच गई है. स्वास्थ्य विभाग की विज्ञप्ति के मुताबिक राज्य में कोविड-19 से 22 और लोगों की मौत हुई है जिससे अबतक इस संक्रमण से जान गंवाने वाले की संख्या 323 तक पहुंच गई है. Also Read - कोविड-19 से ठीक होने के बाद तिहाड़ जेल भेजा गया गैंगस्टर Chhota Rajan

विज्ञप्ति के मुताबिक शनिवार को 119 मरीजों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई. इस प्रकार राज्य में अबतक 1,076 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं. Also Read - कोविड मरीजों को दिया जा रहा निशुल्क 'कोरोना किट', पाने का है यह आसान तरीका; सिर्फ इस नंबर पर करें कॉल और...

इसी बीच खबरें आई हैं कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार मुंबई और पुणे शहरों में हाई रिस्क वाले क्षेत्रों में 4 मई को COVID-19 लॉकडाउन को नहीं हटाएगी. रिपोर्टों में कहा गया है कि इन शहरों में 18 मई तक लॉकडाउन को आगे बढ़ाया जा सकता है. क्योंकि दोनों शहरों में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. Also Read - देश के लिए अच्छी खबर, 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कम हो रहे कोरोना केस

लाइवमिंट ने राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे के हवाले से लिखा, “लॉकडाउन को लागू करने का मुख्य उद्देश्य कोविद-19 महामारी के प्रसार को रोकना था और यदि प्रसार नहीं रुक रहा है, तो हमें लॉकडाउन का विस्तार करना होगा.”

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने शनिवार को कहा कि राज्य में लॉकडाउन के नियमों में तीन मई तक कोई बदलाव नहीं होगा. टोपे ने कहा कि दुकानों को खोलने के संबंध में केन्द्र की ओर से जारी नए आदेश में कोई स्पष्टता नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री के साथ सोमवार को वीडियो कांफ्रेंस के बाद चीजें स्पष्ट होंगी.’’ मंत्री ने कहा, ‘‘हमें केन्द्रीय गृह मंत्रालय के आदेश पर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया है. लेकिन लॉकडाउन के नियमों में तीन मई तक और कोई छूट नहीं दी जाएगी.’’

उन्होंने कहा कि मुंबई और पुणे जैसे क्षेत्रों में रेड जोन (ऐसे क्षेत्र जहां कोरोना वायरस से संक्रमण के अत्यधिक मामले हैं) में लॉकडाउन की अवधि में विस्तार करने या नहीं करने का फैसला बाद में लिया जाएगा.