नई दिल्ली: महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को औरंगाबाद त्रासदी पर अपनी संवेदना व्यक्त की और राज्य में प्रवासी कामगारों से परेशान न होने का आग्रह करते हुए, यह भी स्पष्ट किया कि सेना को मुंबई में तैनात नहीं किया जाएगा. इस दौरान महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रवासियों से धैर्य रखने का आग्रह किया. Also Read - दिल्ली में कोरोना का नया रिकॉर्ड, 1 दिन में 1163 नए मामले सामने आए

उन्होंने ये भी कहा कि कोई परेशान न हो, मुंबई में सेना की तैनाती नहीं की जाएगी. दरअसल उद्धव ठाकरे का ये बयान इसलिए आया है क्योंकि उन्होंने आज दिन में ही कहा था कि महाराष्ट्र सरकार जरूरत पड़ने पर केन्द्रीय बलों की तैनाती का अनुरोध कर सकती है, ताकि चरणबद्ध तरीके से पुलिस कर्मी आराम कर पाएं. Also Read - वैज्ञानिकों ने किया खुलासा, बताया आखिर किस तरह से जानवर से मनुष्य में पहुंचता है कोरोना वायरस

मुख्यमंत्री ने आज राज्य को संबोधित करते हुए कहा, ‘औरंगाबाद में आज का हादसा दर्दनाक था. मैं प्रवासी मजदूरों से अपील करता हूं कि वे बेचैन न हों. हम विभिन्न राज्यों के संपर्क में हैं. कुछ और दिनों के लिए अपना धैर्य बनाए रखें. महाराष्ट्र सरकार आपके साथ है.” Also Read - KXIP के सह-मालिक नेस वाडिया का बड़ा बयान, विदेशी खिलाड़ियों के बिना नहीं हो सकता IPL

बता दें कि महाराष्ट्र में कोविड-19 संक्रमण के 731 नए मामले सामने आने के बाद शुक्रवार को संक्रमितों की संख्या बढ़कर 19,063 हो गई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्वीकार किया कि वह कोरोना वायरस की ‘श्रृंखला’ तोड़ने में अभी तक कामयाब नहीं हुए हैं.

राज्य के स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य में 37 और लोगों की मौत हो गई है, जिसके बाद मृतकों का आंकड़ा 731 हो गया है. वहीं बीएमसी के मुताबिक मुम्बई में कोविड-19 के 748 नए मामले सामने आने के बाद यहां वायरस के मामले बढ़कर 11,967. वहीं 25 संक्रमित लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 462 हुई.