मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा के लिए नवनिर्वाचित 176 विधायक आपराधिक आरोपों का सामना कर रहे हैं. चुनाव निगरानी संस्था ‘एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (एडीआर) द्वारा शनिवार को जारी आंकड़ों में यह दावा किया गया है.

राज्य विधानसभा के कुल 288 विधायकों में 285 विधायकों के हलफनामों का विश्लेषण करने पर पाया गया कि 62 प्रतिशत (176 विधायक) के खिलाफ आपराधिक मामले लंबित हैं, जबकि 40 प्रतिशत (113 विधायक) के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले हैं.

JJP के विधायकों के पास है सबसे ज्यादा पैसा, 12 पर चल रहे आपराधिक मामले, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

एडीआर ने कहा है कि बाकी तीन विधायकों के हलफनामे का अध्ययन नहीं किया जा सका क्योंकि चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उनके संपूर्ण कागजात उपलब्ध नहीं थे.

निवर्तमान विधायकों और नवनिर्वाचित विधायकों के हलफनामों की तुलना करते हुए एडीआर ने कहा है कि 2014 के चुनाव में राज्य विधानसभा में 165 विधायक आपराधिक मामलों का सामना कर रहे थे और इनमें से 115 गंभीर आपराधिक आरोपों का सामना कर रहे थे.

शिवसेना ढाई-ढाई साल की सरकार के फॉर्मूले पर अड़ी, उद्धव ठाकरे ने अमित शाह से मांगा लिखित आश्वासन

एडीआर के मुताबिक निवर्तमान विधानसभा की तुलना में नई विधानसभा में करोड़पति विधायकों की संख्या ज्यादा है. आंकड़ों के मुताबिक नई विधानसभा में कुल 264 (93 प्रतिशत) करोड़पति विधायक हैं जबकि निवर्तमान विधानसभा में 253 (88 प्रतिशत) विधायक करोड़पति थे.

विज्ञप्ति में कहा गया, ‘नई विधानसभा में विधायकों की औसत संपत्ति 22.42 करोड़ रुपये है, जो 2014 में 10.87 करोड़ रुपये थी. इस बार के चुनाव में कम से कम 118 विधायक फिर से चुने गए और 2019 में पुन: निर्वाचित विधायकों की औसत संपत्ति 25.86 करोड़ रुपये है.’