मुंबई: महाराष्ट्र में मंगलवार रात से अब तक कोरोना वायरस से चार और लोगों के संक्रमित होने के साथ महाराष्ट्र में इसके कुल मरीजों की संख्या 116 हो गई है. कोरोना वायरस के पांच नए मामले सामने आए, जिससे राज्य में संक्रमित कुल लोगों की संख्या 112 पर पहुंच गई थी. यह देश में अब तक किसी राज्य में कोरोना वायरस के मरीजों की सबसे अधिक संख्या है. Also Read - कोरोना वायरस पीड़ितों के इलाज के लिए विश्व कप फाइनल में पहनी जर्सी नीलाम करेंगे जोस बटलर

कोरोना वायरस से चार और लोगों के संक्रमित होने के साथ महाराष्ट्र में इसके कुल मरीजों की संख्या 116 हुई. महाराष्ट्र के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने कहा, महाराष्ट्र में COVID19 रोगियों की वर्तमान संख्‍या 116 है. सांगली में एक परिवार के 5 लोगों की पहचान संपर्कों के कारण सकारात्मक है और मुंबई के 4 लोगों को यात्रा इतिहास या संपर्कों के कारण सकारात्मक के रूप में पहचान हुई है. Also Read - Video: पंजाब में कोरोना के खिलाफ जंग के असली हीरो का हुआ सम्मान, किसी ने बरसाए फूल तो किसी ने पहनाई माला

अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि नए मामले सांगली जिले से आए हैं, जहां इस्लामपुर में एक ही परिवार के पांच सदस्य कोविड-19 से संक्रमित पाए गए. एक अधिकारी ने कहा, ‘‘हम यह जांच कर रहे हैं कि क्या ये पांचों लोग हाल फिलहाल में भारत में या उससे बाहर कहीं गए थे.’’ Also Read - स्वीकार करना पड़ेगा कि इस बार हम विंबलडन नहीं खेल पाएंगे: जान इसनर

राज्य में मंगलवार को दस और मामले पता चले थे और सोमवार रात को आठ मामलों की पुष्टि हुई थी.

इस बीच, महाराष्ट्र में नव वर्ष की शुरुआत के तौर पर मनाए जाने वाले गुड़ी पड़वा पर्व का जश्न सादे तरीके से मनाया गया. लोग कोरोना वायरस के मद्देनजर देशव्यापी लॉकडाउन (बंद) के कारण घरों में ही रहे.

प्रधानमंत्री ने उत्सव के लिए महाराष्ट्र के लोगों को शुभकामनाएं देने के के लिए मराठी भाषा में ट्वीट किया. उन्होंने कहा,” महाराष्ट्र के लोग गुड़ी पड़वा मना रहे हैं. मैं उनकी सफलता, समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूं. ईश्वर करे, इस साल उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो.”

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा, गुडीपड़वा में आमतौर पर उत्सव के दौरान ढोल और झांझ बजाते लोगों के दृश्य होते हैं, लेकिन आज हम शांत रहेंगे. इस संकट के खत्म होने पर हम जश्न मनाएंगे.

गुड़ी पड़वा चैत्र के महीने का पहला दिन होता है और इसे हिंदू कलेंडर के अनुसार नववर्ष की शुरुआत के तौर पर मनाया जाता है.

पुलिस ने लोगों को बाजार में भीड़ लगाने से रोकने के लिए कड़े बंदोबस्त किए. लॉकडाउन के बावजूद कई लोग चेहरे पर मास्क पहनकर सुबह की सैर के लिए जाते देखे गए.

महाराष्ट्र के राज्यपाल बी एस कोश्यारी ने लोगों से राज्य तथा देश में अभूतपूर्व हालात के मद्देनजर घरों में रहते हुए नव वर्ष का स्वागत करने की अपील की. उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयासों की सफलता लोगों के पूर्ण सहयोग पर निर्भर करती है.