Cyclone Tauktae , Maharashta, Gujarat, IMD Weather, News: चक्रवाती तूफान तौकते (Cyclone Tauktae) और मजबूत हो गया है और यह गुजरात तट (Gujarat coast) और केंद्र शासित प्रदेश दमन-दीव एवं दादरा-नगर हवेली तट की ओर बढ़ रहा है. उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और 18 मई की दोपहर के आसपास पोरबंदर और नलिया के बीच गुजरात तट को पार करने की संभावना है. आईएमडी ने इसके लिए अलर्ट जारी किया है. Also Read - अहमदाबाद हवाई अड्डे पर अचानक आया तूफान, इंडिगो सहित कई कंपनियों के विमान क्षतिग्रस्त

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है, चक्रवात Tauktae के उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ने की बहुत संभावना है देर दोपहर तक, इसका केंद्र गोवा के उत्तर-उत्तर पश्चिम में होगा.लगभग पूरे दिन जारी रहेगी आंधी और बारिश. Also Read - Amul Micro ATM: गुजरात के राजकोट गांव में डेयरी किसानों के लिए अमूल माइक्रो एटीएम शुरू

कर्नाटक के 6 ज़िलों में अत्यधिक भारी बारिश, अब तक 4 लोगों की जान गई, 73 गांव प्रभावित
कर्नाटक राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण(KSDMA) ने कहा, चक्रवात तौकते की वजह से पिछले 24 घंटों में 6 ज़िलों, 3 तटीय जिलों और 3 मलनाड जिलों में भारी से अत्यधिक भारी बारिश हुई है. अब तक 4 लोगों की जान गई और 73 गांव प्रभावित हुए हैं. Also Read - Indian Railways: अनलॉक शुरू होते ही रेलवे ने बढ़ाई ट्रेनों की संख्या, Western Railway ने चलाईं स्पेशल ट्रेनें, देखें Full List

चक्रवाती तूफान तौकते रविवार और सोमवार को गोवा से महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग और रत्नागिरि जिलों के साथ ज्यादातर बारिश और तेज हवाओं से प्रभावित है.

चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ (Cyclone Tauktae) 18 मई की सुबह के आसपास पोरबंदर और महुवा (भावनगर जिला) के बीच गुजरात तट को पार करेगा. चक्रवाती तूफान के तेज होने 150 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती है.

आईएमडी ने कहा कि 17 मई को मुंबई सहित उत्तरी कोंकण में कुछ स्थानों पर तेज हवाएं चलेंगी और भारी बारिश होगी. आईएमडी ने कहा कि चूंकि इससे उस क्षेत्र में बहुत भारी वर्षा आएगी, मुंबई जैसे शहर ज्यादा प्रभावित नहीं होंगे. वरिष्ठ निदेशक (मौसम) आईएमडी, मुंबई शुभानी भूटे ने कहा कि महाराष्ट्र की राजधानी में रविवार दोपहर से बारिश की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि तूफान फिलहाल गोवा से 250 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में है. महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग और रत्नागिरि जिलों के साथ गोवा ज्यादातर बारिश और तेज हवाओं से प्रभावित होगा. उन्होंने कहा कि हवा की गति लगभग 60 से 70 किमी प्रति घंटे होगी.

कोल्हापुर और सतारा में रविवार और सोमवार को भारी से बहुत भारी बारिश
आईएमडी ने ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया है, जिसका मतलब है कि पूरे कोंकण और पश्चिमी महाराष्ट्र के पहाड़ी इलाकों, मुख्य रूप से कोल्हापुर और सतारा में रविवार और सोमवार को भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है. महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को तटीय जिलों में अधिकारियों को सतर्क रहने का निर्देश दिया. ठाकरे ने आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में कहा था कि पालघर, रायगढ़, रत्नागिरि, सिंधुदुर्ग जिलों के कलेक्टरों को सभी आवश्यक सावधानी बरतने को कहा गया है.

NDRF की टीमें तैनात
वहीं, गुजरात में चक्रवाती तूफान तौकते को देखते हुए राज्य में NDRF की टीमें तैनात की गई हैं. NDRF गांधीनगर के डिप्टी कमांडेंट रणविजय कुमार सिंह ने बताया, “24 टीमें आज शाम तक अपनी जगह ले लेंगी जिसमें 13 टीमें बाहर से मंगाई गई हैं.

भीषण चक्रवाती तूफान की गुजरात को चेतावनी 
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गुजरात सरकार को जारी एक परामर्श में कहा कि बहुत भीषण चक्रवाती तूफान से फूस के घरों, सड़कों, बिजली और संचार लाइनों को नुकसान होने की संभावना है, खासकर सौराष्ट्र क्षेत्र के जिलों जैसे देवभूमि द्वारका, कच्छ, पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, जामनगर, अमरेली, राजकोट और मोरबी जिलों में. 17 मई को सौराष्ट्र के तटीय जिलों में कई स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होगी और सौराष्ट्र एवं कच्छ में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होगी और जूनागढ़ और गिर सोमनाथ जिलों में कुछ स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा होने की संभावना है. 17 मई की सुबह से उत्तर पश्चिमी अरब सागर के साथ लगने वाले इलाके और दक्षिण गुजरात तट से लगे इलाके में समुद्र बहुत अशांत रहेगा.

ऊंची समुद्री लहर से कई ज‍िलों में खतरा 
अलर्ट के मुताबिक, मोरबी, कच्छ, देवभूमि द्वारका और जामनगर जिले के तटीय क्षेत्रों के दो-तीन मीटर ऊंची समुद्री लहर से जलमग्न होने और पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, अमरेली, भावनगर में 1-2 मीटर लहर से जलमग्न होने और गुजरात के शेष तटीय जिलों में और 0.5-1 मीटर लहर से जलमग्न होने की आशंका है. गृह मंत्रालय ने 17 और 18 मई को उत्तर पश्चिमी अरब सागर और गुजरात तट से मछली पकड़ने का कार्य पूरी तरह से स्थगित करने की सलाह दी.

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीमें तैनात 
एनडीआरएफ के एक प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीमें गुजरात के गिर सोमनाथ, अमरेली, पोरबंदर, द्वारका, जामनगर, राजकोट, कच्छ, मोरबी, सूरत, गांधीनगर, वलसाड, भावनगर, नवसारी, भरूच और जूनागढ़ जिलों में तैनात हैं. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने बनासकांठा जिले में कहा, ‘‘राज्य सरकार ने पूरी तैयारी कर ली है और एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है. सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात क्षेत्रों में जिला प्रशासनों को सतर्क कर दिया गया है जिनके चक्रवात से प्रभावित होने की संभावना है. एनडीआरएफ की टीमें राज्य में पहुंच रही हैं.

चक्रवात तौकाते से निपटने को वायुसेना, नौसेना तैनात, उड़ानें निलंबित
भारतीय वायुसेना, नौसेना और राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) चक्रवात तौकाते से निपटने के लिए तैयार हैं. चक्रवात से अगले कुछ दिनों में देश के पश्चिमी तट पर ‘बहुत भारी’ बारिश होने की संभावना है. भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने रविवार सुबह 10 बजे तक भारी बारिश के अनुमानों के कारण लक्षद्वीप में अगत्ती हवाईअड्डे के लिए सभी निर्धारित उड़ानों को निलंबित कर दिया है.

एयरफोर्स के 16 परिवहन विमानों और 18 हेलीकॉप्टरों को ऑपरेशन के लिए तैयार
वायुसेना ने प्रायद्वीपीय क्षेत्रों में 16 परिवहन विमानों और 18 हेलीकॉप्टरों को ऑपरेशन के लिए तैयार रखा है. बल ने एक बयान में कहा, एक आईएल-76 विमान ने 127 कर्मियों और 11 टन कार्गो को भटिंडा से जामनगर पहुंचाया है. वायुसेना ने यह भी कहा कि दो सी-130 विमान ने 25 कर्मियों और 12.3 टन कार्गो को भटिंडा से राजकोट तक एयरलिफ्ट किया है। बयान में कहा गया, दो सी-130 विमानों ने 126 कर्मियों और 14 टन कार्गो को भुवनेश्वर से जामनगर के लिए एयरलिफ्ट किया है. कहा गया, कोविड राहत के लिए चल रहे कार्यो के अलावा चक्रवात राहत अभियान भी चल रहा है.