Delta Plus Variant In Maharashtra: महाराष्ट्र में कोविड-19 के अत्यधिक संक्रामक स्वरूप ‘डेल्टा प्लस’ के अभी तक 21 मामले सामने आ चुके हैं. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि इस स्वरूप के सबसे अधिक नौ मामले रत्नागिरी, जलगांव में सात मामले, मुंबई में दो और पालघर, ठाणे तथा सिंधुदुर्ग जिले में एक-एक मामला सामने आया है.Also Read - कोरोना: छत्तीसगढ़ में ऑक्सीजन की कमी से हुईं कितनी मौतें, ऑडिट कराएगी कांग्रेस सरकार

उन्होंने बताया कि राज्य के विभिन्न हिस्सों से 7,500 नमूने लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं. ये नमूने 15 मई तक एकत्रित किए गए थे और इनका जीनोम अनुक्रमण किया जा चुका है. जीनोम अनुक्रमण से सार्स-सीओवी2 में छोटे से छोटे उत्परिवर्तन (वायरस के स्वरूप बदलने का) का भी पता चल जाता है. Also Read - इस राज्य में मनोरंजन पार्क खोलने और धार्मिक स्थलों में धार्मिक गतिविधियों की मिली इजाजत, सरकार का बड़ा फैसला

टोपे ने बताया कि जो लोग डेल्टा प्लस से संक्रमित पाए गए हैं, उन्होंने हाल ही में यात्रा की थी या नहीं, कोविड-19 रोधी टीका लगवाया था या नहीं और क्या वे दोबारा संक्रमित हुए? उनसे जुड़ी अन्य जानकारी एकत्रित की जा रही है. उनके सम्पर्क में आए लोगों की भी पहचान की जा रही है. Also Read - Corona Virus: महाराष्ट्र में 6,017 नए मामले आए, 22 फरवरी के बाद सबसे कम

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने पिछले सप्ताह एक प्रेसेंटेशन दिया था जिसमें कहा था कि संक्रमण का नया स्वरूप डेल्टा प्लस राज्य में कोविड-19 की तीसरी लहर का कारण बन सकता है.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ राज्य कोविड-19 कार्य बल के सदस्य और स्वास्थ्य विभाग के सदस्य भी इस बैठक में शामिल हुए थे.