मुम्बई/अकोला: महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध के बीच मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे राज्य में उन क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं, जहां बेमौसम बारिश के कारण फसल नष्ट हुई है. मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने बताया कि फडणवीस ने रविवार को अकोला में किसानों से मुलाकात की और नष्ट फसलों का मुआयना किया. वहीं, शिवसेना की ओर से जारी बयान के अनुसार ठाकरे रविवार को औरंगाबाद जिले में पहुंचे जहां कन्नड़ और वैजापुर तालुका में फसलों को काफी नुकसान हुआ है.

शिवसेना नहीं मानी तो महाराष्ट्र में भाजपा करेगी ये काम, राजनीतिक गलियारों में चर्चा जोर

फडणवीस ने आज सुबह अकोला के महेशपुर,लखनवाड़ा, कपाशी और चिखलगांव का दौरा किया तथा उन किसानों के साथ चर्चा की जिनकी फसल को नुकसान पहुंचा है. फडणवीस ने जिला अधिकारी कार्यालय को निर्देश दिया है कि वे छह नवंबर तक फसलों को हुए नुकसान के सर्वेक्षण का काम पूरा करें और हर जिले में किसानों को राहत प्रदान करने के लिए हेल्पलाइन जरूर बनाई जाए. स्थानीय अधिकारियों ने दौरे के दौरान कहा कि जिले में करीब तीन लाख हेक्टेयर के अनुमानित इलाके में कपास, सोयाबीन और ज्वार की फसल को नुकसान पहुंचा है.

महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे दिल्ली

बारिश के चलते धान, कपास, मक्का, अरहर और सोयाबीन जैसी फसलों को नुकसान
राज्य सरकार ने शनिवार को बेमौसम बारिश से प्रभावित किसानों को तत्काल सहायता प्रदान करने के लिए विशेष प्रावधान के तहत 10,000 करोड़ रुपये मंजूर किए थे. फडणवीस ने शुक्रवार को एक समीक्षा बैठक के बाद कहा था कि 325 तालुकाओं में 54.22 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में ज्वार, धान, कपास, मक्का, अरहर और सोयाबीन जैसी फसलों को नुकसान हुआ है. अरब सागर में चक्रवात के कारण राज्य को बेमौसम बारिश का सामना करना पड़ा था. राज्य के परिवहन मंत्री दिवाकर राओते ने शनिवार को अकोला जिले में फसलों को हुए नुकसान का आकलन करने के लिए खेतों का मुआयना किया था. विपक्षी कांग्रेस ने किसानों को राहत के लिए दस हजार करोड़ रुपये के पैकेज को महज “दिखावा” बताया है. (इनपुट एजेंसी)