मुंबई: महाराष्ट्र में बीजेपी के दिग्गज नेता दिवंगत गोपीनाथ मुंडे ने बीड जिले में परली विधानसभा सीट को राजनीतिक नक्शे पर पहचान दिलाई और अब एक बार फिर उनकी बेटी पंकजा मुंडे और भतीजे धनंजय मुंडे के बीच इस सीट पर चुनावी मुकाबला देखने को मिलेगा. वहीं, राज्य विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे अपनी बहन के ‘‘खराब प्रदर्शन’’ को चुनावी हथियार बना रहे हैं. बता दें कि राज्य में सभी 288 विधानसभा सीटों के लिए मतदान 21 अक्टूबर को होगा और मतगणना 24 अक्टूबर को होगी.

देवेंद्र फड़णवीस के नेतृत्व वाले राज्य मंत्रिमंडल में मंत्री पंकजा मुंडे ने परली से 2014 के विधानसभा चुनावों में अपने चचेरे भाई और एनसीपी नेता को 25,000 मतों के अंतर से हराया था. परली मुंबई से करीब 470 किलोमीटर दूर स्थित एक ग्रामीण क्षेत्र है.

बीजेपी का लक्ष्य- बार फिर इस सीट पर कब्जा जमाना है
बीजेपी का लक्ष्य तेजी से रेल नेटवर्क बिछाने समेत इलाके में किए विकास कार्यों को रेखांकित कर एक बार फिर इस सीट पर कब्जा जमाना है. भाजपा को विश्वास है कि इस क्षेत्र के लोग पंकजा मुंडे के लिए वोट करेंगे, जो ग्रामीण विकास और महिला एवं बाल कल्याण मंत्री हैं तथा बीड की संरक्षक मंत्री भी हैं.

राकांपा नेता का दावा- बहन परली का विकास नहीं कर सकीं 
बीजेपी का कहना है कि वंजारी और मराठा समुदाय के प्रभुत्व वाले क्षेत्र में लोगों ने विकास कार्यों का अनुभव किया है, जबकि राकांपा नेता का दावा है कि उनकी रिश्ते की बहन परली का विकास नहीं कर सकीं, जबकि उनके पास राज्य मंत्रिमंडल में चार विभाग थे और उनकी पार्टी केंद्र में सत्ता में है.

परियोजनाएं भी रुकी हुई हैं
एनसीपी उम्‍मीदवार धनंजय मुंडे ने कहा, ”निर्वाचन क्षेत्र में पिछले पांच वर्षों में एक भी सिंचाई परियोजना नहीं चलाई गई.” उन्होंने कहा कि परली-बीड-नगर रेल परियोजना पर काम नहीं हो रहा है और सड़क परियोजनाएं भी रुकी हुई हैं. उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘परली की तरफ जाने वाली एक भी अच्छी सड़क नहीं है.’’

कांग्रेस-राकांपा 15 साल में नहीं कर सके व‍िकास
महाराष्ट्र भाजपा प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने हालांकि, धनंजय मुंडे के दावों को खारिज करते हुए कहा कि राज्य सरकार और परली से मौजूदा विधायक ने पिछले पांच वर्षों में इस निर्वाचन क्षेत्र में कहीं अधिक विकास कार्य किए हैं, जो कांग्रेस-राकांपा अपने 15 साल के शासनकाल में नहीं कर सकीं. उन्होंने कहा, ‘‘चाहे सड़क हो या रेल का काम, सभी काम तेजी से किए गए जो कई वर्षों से अटके पड़े थे.’’

विकास के लिए वोट करेंगे: बीजेपी
बीजेपी प्रवक्ता उपाध्याय ने कहा, ”लोगों ने भी विकास देखा है और इसलिए वे निश्चित तौर पर विकास के लिए वोट करेंगे यानी कि पंकजा ताई के लिए.” इस निर्वाचन क्षेत्र में करीब 135 गांव हैं, जिनमें कुल 3,05,660 मतदाता हैं.

वंजारी और मराठा समुदायों का प्रभुत्व
एनसीपी में एक सूत्र ने बताया कि आबादी के लिहाज से इस क्षेत्र में वंजारी और मराठा समुदायों का प्रभुत्व बराबर माना जाता है. उन्होंने कहा कि जब से दिवंगत गोपीनाथ मुंडे जी इसका प्रतिनिधित्व करते थे तो इस निर्वाचन क्षेत्र को वंजारियों के प्रभुत्व वाला माना जाता है.