मुंबई: शिवसेना नेता संजय राउत ने शुक्रवार को कहा कि अगर देवेंद्र फड़णवीस को लगता है कि उनके नेतृत्व में महाराष्ट्र में भाजपा की फिर से सरकार बना सकती है तो उन्हें वह ‘शुभकामनाएं’ देते हैं. मुख्यमंत्री ने शुक्रवार शाम राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया. राज्य में विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के एक पखवाड़े बाद भी सरकार गठन को लेकर दोनों सहयोगी दलों के बीच गतिरोध नहीं दूर हो सका है.

फड़णवीस ने सत्ता साझेदारी के समझौते पर सहमति नहीं बनने के लिए सीधे तौर पर शिवसेना को जिम्मेदार ठहराया है. मुख्यमंत्री के इस्तीफे के बाद, मीडिया कर्मियों से बात करते हुए राउत ने कहा कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे जल्द ही पार्टी की स्थिति स्पष्ट करेंगे.

राउत ने कहा, अगर मुख्यमंत्री को लगता है कि उनके नेतृत्व में फिर से भाजपा की सरकार बन सकती है तो, मेरी उन्हें शुभकामनाएं. लोकतंत्र में जिनके पास बहुमत होता है वे सरकार बनाते हैं और मुख्यमंत्री का पद पाते हैं.

शिवसेना नेता ने पत्रकारों से कहा, मैं अपनी पार्टी की ओर से यह भी कहता हूं कि अगर हम चाहें तो सरकार बना सकते हैं और मुख्यमंत्री भी शिवसेना का हो सकता है. उन्होंने फड़णवीस के इन आरोपों को भी खारिज कर दिया कि शिवसेना नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की अनुचित आलोचना की है.

राउत ने कहा, शिवसेना ने मोदी या शाह के बारे में कोई भी निजी टिप्पणी नहीं की. यह गलत बयान है. हमने हमेशा प्रधानमंत्री और गृह मंत्री का सम्मान किया है. आप हमारे बयान देख सकत हैं.

शिवसेना प्रवक्‍ता ने फड़णवीस के इस आरोप का भी खंडन किया कि शिवसेना ने राकांपा और कांग्रेस के साथ बातचीत (सरकार गठन के लिए) की थी. शिवसेना नेता ने कहा कि कई राज्यों में भाजपा ने उन दलों के साथ गठबंधन किया जो वैचारिक रूप से भाजपा से भिन्न हैं.

राज्य में 24 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित किए गए थे और एक पखवाड़े बाद भी सरकार गठन पर दोनों पार्टियों के बीच सहमति बनती नहीं दिख रही है. भाजपा और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है.