मुंबई. महाराष्ट्र के प्याज उपजाने वाले एक किसान को अपनी उपज एक रुपए प्रति किलोग्राम से कुछ अधिक की दर पर बेचनी पड़ी. इससे नाराज होकर किसान ने अपना विरोध दर्ज कराने के लिए अपनी कमाई प्रधानमंत्री को भेज दी. नासिक जिले के निफाड तहसील के निवासी संजय साठे उन कुछ चुनिंदा ‘प्रगतिशील किसानों’ में से एक है, जिन्हें केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा से 2010 में उनकी भारत यात्रा के दौरान संवाद के लिए चुना था. साठे ने रविवार को कहा, ‘मैंने इस मौसम में 750 किलोग्राम प्याज उपजाई लेकिन गत सप्ताह निफाड थोक बाजार में एक रुपए प्रति किलोग्राम की दर की पेशकश की गई.’ Also Read - Kisan March: दिल्ली के करीब पहुंच रहे हैं किसान, सीमाओं पर बढ़ाई गई सुरक्षा, हो रही भारी चेकिंग, इन जगहों पर लग सकता है जाम

Also Read - Delhi Border Seal: लाखों की संख्या में दिल्ली की तरफ बढ़े किसान, बॉर्डर पर कड़ी हुई सुरक्षा, डायवर्ट किया गया ट्रैफिक

मुक्ति मार्च से किसानों को क्या होगा हासिल, एक के बाद एक आंदोलन से मिलेगा कोई फायदा? Also Read - Kisaan Aandolan Today Live: उग्र हुआ किसानों का ‘दिल्ली चलो’ आंदोलन, दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों में निगरानी बढ़ी

संजय साठे ने कहा, ‘750 किलो प्याज के लिए मैं सिर्फ 1.40 रुपए प्रति किलोग्राम का सौदा ही तय कर पाया. मुझे प्याज के लिए महज 1064 रुपए मिले.’ उन्होंने कहा, ‘चार महीने के परिश्रम की मामूली वापसी प्राप्त होना दुखद है. इसलिए मैंने 1064 रुपए पीएमओ के आपदा राहत कोष में दान कर दिए. मुझे वह राशि मनीऑर्डर से भेजने के लिए 54 रुपए अलग से देने पड़े.’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं किसी राजनीतिक पार्टी का प्रतिनिधित्व नहीं करता. लेकिन मैं अपनी दिक्कतों के प्रति सरकार की उदासीनता के कारण नाराज हूं.’

किसानों से बोले राहुल गांधी- चाहे कानून बदलना हो या पीएम, कर्ज माफी के लिए हर काम करेंगे

मनीऑर्डर 29 नवम्बर को भारतीय डाक के निफाड कार्यालय से भेजा गया. वह ‘नरेंद्र मोदी, भारत के प्रधानमंत्री’ के नाम प्रेषित किया गया. आपको बता दें कि पूरे भारत में जितनी प्याज होती है उसमें से 50 प्रतिशत उत्तर महाराष्ट्र के नासिक जिले से आती है. पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर संजय साठे ने कहा, ‘मैं लंबे समय से (टेलीकाम ऑपरेटर द्वारा संचालित) किसानों के लिए आवाज आधारित परामर्श सेवा का इस्तेमाल कर रहा था. मैं उन्हें फोन करता था और मौसम के बदलाव के बारे में सूचना लेता था और इस तरह से मैं अपनी उपज बढ़ाने में सफल रहा.’ साठे ने कहा, ‘मुझे आकाशवाणी के स्थानीय रेडियो स्टेशनों पर कृषि के बारे में अपने प्रयोगों के बारे में बोलने के लिए आमंत्रित किया गया. इसलिए कृषि मंत्रालय ने मेरा चयन मुम्बई सेंट जेवियर्स कालेज में स्थापित एक स्टॉल के लिए किया, जब ओबामा भारत आए थे. मैंने उनसे दुभाषिये की मदद से कुछ मिनट बात की.’